होम भजन
कलयुग देख बाबा हियो मत हार जो रामदेवजी भजन

कलयुग देख बाबा हियो मत हार जो रामदेवजी भजन

कलयुग देख बाबा हियो मत हार जो, थे तो पीर जी पधार जो होमा, तने पीर कहूं के रोमा, लियो अजमल घर जोमा।। पूंगलगढ़ मे पीर केवाया, रणुजा...
मैया तेरे नवराते हैं मैं तो नाचू छम छमा छम भजन लिरिक्स

मैया तेरे नवराते हैं मैं तो नाचू छम छमा छम भजन...

मैया तेरे नवराते हैं, मैं तो नाचू छम छमा छम, छमाछम छमाछम छमाछम, मैया तेरे जगराते हैं, मैं तो गाऊं तेरे गुण, छमाछम छमाछम छमाछम, तेरी धुन में मगन, मेरा झूम...
मोहन बन गये नर से नार भजन लिरिक्स

मोहन बन गये नर से नार भजन लिरिक्स

मोहन बन गये नर से नार, छमाछम नाचे कृष्ण मुरार, देखो कैसे सजे है, ये नंद के दुलार, मोहन बन गये नर से नार।। तर्ज - लेके पहला पहला...
मेरी लगी श्याम संग प्रीत ये दुनिया क्या जाने भजन लिरिक्स

मेरी लगी श्याम संग प्रीत ये दुनिया क्या जाने भजन लिरिक्स

मेरी लगी श्याम संग प्रीत, ये दुनिया क्या जाने, मुझे मिल गया मन का मीत, ये दुनिया क्या जाने, क्या जाने कोई क्या जाने, क्या जाने कोई क्या...
अनंत चतुर्दशी का आया पावन त्यौहार भजन लिरिक्स

अनंत चतुर्दशी का आया पावन त्यौहार भजन लिरिक्स

अनंत चतुर्दशी का आया पावन त्यौहार, विष्णु जी का व्रत है, जिसकी महिमा अपरम्पार, विष्णु जी का व्रत है, जिसकी महिमा अपरम्पार।। तर्ज - सावन का महिना। कृष्ण...
गणपति अपने गाँव चले कैसे हमको चैन पड़े भजन लिरिक्स

गणपति अपने गाँव चले कैसे हमको चैन पड़े भजन लिरिक्स

गणपति अपने गाँव चले, कैसे हमको चैन पड़े।। गणपति बप्पा मोरया, पूढच्या वर्षी लवकर या, मोरया रे, बप्पा मोरया रे, मोरया रे, बप्पा मोरया रे।। गणपति...
सुदामा खड़ा तेरे दर सांवरे भजन लिरिक्स

सुदामा खड़ा तेरे दर सांवरे भजन लिरिक्स

सुदामा खड़ा तेरे दर सांवरे, दोहा - मेरी कागज़ की कश्ती कान्हा, तुम इसको पार लगाओ, हार के आया द्वार पे तेरे, आकर गले से लगाओ। सुदामा खड़ा तेरे...
श्री गोवर्धन महाराज महाराज तेरे माथे मुकुट विराज रह्यो लिरिक्स

श्री गोवर्धन महाराज महाराज तेरे माथे मुकुट विराज रह्यो लिरिक्स

श्री गोवर्धन महाराज महाराज, तेरे माथे मुकुट विराज रह्यो।। तोपे पान चढ़े तोपे फूल चढ़े, तोपे पान चढ़े तोपे फूल चढ़े, तोपे चढ़े दूध की धार, ओ धार, तेरे...
जिसको नही है बोध तो गुरु ज्ञान क्या करे भजन लिरिक्स

जिसको नही है बोध तो गुरु ज्ञान क्या करे भजन लिरिक्स

जिसको नही है बोध तो, गुरु ज्ञान क्या करे, निज रूप को जाना नहीं, पुराण क्या करे।। घट घट में ब्रह्मज्योत का, प्रकाश हो रहा, मिटा न द्वैतभाव तो, मिटा...
राम सुनलो मेरी बात तुम गौर से भजन लिरिक्स

राम सुनलो मेरी बात तुम गौर से भजन लिरिक्स

राम सुनलो मेरी बात तुम गौर से, क्यों पराजित हुआ आपसे युद्ध में, जानकी की वजह से ना मैं मर सका, जानकी की तरफ से रहा शुद्ध...
error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।