आज मेरे श्याम की शादी है श्री कृष्ण रुक्मणि विवाह भजन

0
367
बार देखा गया

आज मेरे श्याम की शादी है,
श्याम की शादी है,
मेरे घनश्याम की शादी है,
आज मेरे श्याम की शादी है।।

तर्ज – आज मेरे यार की शादी है।



बनी है खूब जोड़ी,

कृष्ण रुक्मणि की जोड़ी,
ख़ुशी से नाचे है मन,
मिला सजनी को साजन,
हो ओ,,, आज मुझे लगता है,
की ब्रम्हाण्ड की शादी है,
आज मेरे श्याम की शादी है।।

आज मेरे श्याम की शादी हैं,
श्याम की शादी है,
मेरे घनश्याम की शादी है,
आज मेरे श्याम की शादी है।।



रुक्मणि यूँ मुस्कावे,

मुझे कान्हा मिल जावे,
मेरी थी यहीं तमन्ना,
पूरी मेरी हुई तमन्ना,
हो ओ,,, आज मुझे लगता है,
की ब्रम्हाण्ड की शादी है,
आज मेरे श्याम की शादी है।।

आज मेरे श्याम की शादी हैं,
श्याम की शादी है,
मेरे घनश्याम की शादी है,
आज मेरे श्याम की शादी है।।



जगत के पालन कर्ता,

बने रुक्मणि के भर्ता,
गोपियों के चितचोर,
दूल्हा बने माखनचोर,
हो ओ,,,मधुमंगल और श्रीदामा ने,
धूम मचाई है,
आज मेरे श्याम की शादी है।।

आज मेरे श्याम की शादी हैं,
श्याम की शादी है,
मेरे घनश्याम की शादी है,
आज मेरे श्याम की शादी है।।



वक्त है खूबसूरत,

बड़ा शुभ लगन मुहूरत,
देखो क्या खूब सजी है,
दूल्हे की भोली सूरत,
हो ओ,,,बने बाराती देवता सब,
होके साथी है,
आज मेरे श्याम की शादी है।।

आज मेरे श्याम की शादी हैं,
श्याम की शादी है,
मेरे घनश्याम की शादी है,
आज मेरे श्याम की शादी है।।



आज मेरे श्याम की शादी है,

श्याम की शादी है,
मेरे घनश्याम की शादी है,
आज मेरे श्याम की शादी है।।


आपको ये भजन कैसा लगा? हमें बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम