आजा कलयुग में लेके अवतार ओ गोविन्द भजन लिरिक्स

0
3234
बार देखा गया
आजा कलयुग में लेके अवतार ओ गोविन्द भजन लिरिक्स

आजा कलयुग में लेके अवतार ओ गोविन्द
अपने भक्तो की सुनले पुकार ओ गोविन्द।



यमुना का पानी तोसे करता सवाल है

तेरे बिना देख जरा कैसा बुरा हाल है
काहे तूने तोड़ लिया प्यार ओ गोविन्द
अपने भक्तो की सुनले पुकार ओ गोविन्द



निकला है सवा मन सोना जिस कोख से

गाये बिचारि मरे बिना चारे बिना भूख से
गैय्या को दिया दुत्कार ओ गोविन्द
तेरे भक्तो की सुनले पुकार ओ गोविन्द।



घर घर में माखन की जगह शराब है

कलयुगी गोपिया तो बहुत ही ख़राब है
धर्म तो बन व्यापार ओ गोविन्द
अपने भक्तो की सुनले पुकार ओ गोविन्द।



अब किसी द्रोपती बचती ना लाज रे

बिगड़ा जमाना भए उलटे ही काज रे
कन्सो की बनी सरकार ओ गोविन्द
अपने भक्तो की सुनले पुकार ओ गोविन्द।



आजा कलयुग में लेके अवतार ओ गोविन्द

अपने भक्तो की सुनले पुकार ओ गोविन्द ।


आपको ये भजन कैसा लगा? जरूर बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम