आरती जगमग जगमग चमके बालाजी महाराज की

0
648
बार देखा गया
आरती जगमग जगमग चमके बालाजी महाराज की

आरती जगमग जगमग चमके,
बालाजी महाराज की,
बालाजी महाराज की,
सालासर दरबार की,
आरती जगमग जगमग चमकें,
बालाजी महाराज की।।



चैत सुदी पूनम को जन्मे,

अंजनी आज खुशी है मन में,
शोभा बनी है देखो,
अंजनी के लाल की,
आरती जगमग जगमग चमकें,
बालाजी महाराज की।।



मस्तक मुकुट हीरो का सोहे,

कानों में कुंडल अति मन मोहे,
झांकी सजी है देखो,
पवन कुमार की,
आरती जगमग जगमग चमकें,
बालाजी महाराज की।।



भक्तों के दुख हरने ताहि,

अंजनी लाड लडायो मन माही,
महिमा बनी है देखो,
बाला जी सरकार की,
आरती जगमग जगमग चमकें,
बालाजी महाराज की।।



जो कोई बालाजी की,

आरती गावे,
उसका बेड़ा बाबो पार लगावे,
आरती उतारो सब मिल,
सालासर दरबार की,
आरती जगमग जगमग चमकें,
बालाजी महाराज की।।



आरती जगमग जगमग चमके,

बालाजी महाराज की,
बालाजी महाराज की,
सालासर दरबार की,
आरती जगमग जगमग चमकें,
बालाजी महाराज की।।

गायक – श्री सम्पत दाधीच।
संपर्क – 9828065814


आपको ये भजन कैसा लगा? जरूर बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम