अगर दिल किसी का दुखाया ना होता भजन लिरिक्स

4
2230
बार देखा गया
अगर दिल किसी का दुखाया ना होता भजन लिरिक्स

अगर दिल किसी का,
दुखाया ना होता,
अगर दिल किसी का,
दुखाया ना होता,
तो सदमों का तीर दिल पे,
ये खाया ना होता,
अगर दिल किसी का।।

तर्ज – अगर दिल किसी से।



तेरी जिंदगी में,

ना होता अँधेरा,
जो दिया दूसरों का,
बुझाया ना होता,
अगर दील किसी का,
दुखाया ना होता।।



ना होता ज़माने में,

कभी घर से बेघर,
जो घर दूसरों का,
जलाया ना होता,
अगर दील किसी का,
दुखाया ना होता।।



अगर तू हसता,

दुसरो के दुःख पर,
तो हरी ने तुझे यूँ,
रुलाया ना होता,
अगर दील किसी का,
दुखाया ना होता।।



अगर प्यार तू प्रेम,

करता सभी से,
तो जग में रे कोई,
पराया ना होता,
अगर दील किसी का,
दुखाया ना होता।।



अगर दिल किसी का,

दुखाया ना होता,
अगर दील किसी का,
दुखाया ना होता,
सदमों का तीर दिल पे,
ये खाया ना होता,
अगर दिल किसी का।।


4 टिप्पणी

    • धन्यवाद, कृपया गूगल प्ले स्टोर से भजन डायरी डाउनलोड करें और बिना इंटरनेट के भी सारे भजन सीधे अपने मोबाइल में देखे।

    • धन्यवाद, कृपया गूगल प्ले स्टोर से भजन डायरी डाउनलोड करें और बिना इंटरनेट के भी सारे भजन सीधे अपने मोबाइल में देखे।

आपको ये भजन कैसा लगा? जरूर बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम