बाजी बाजी रे बांसुरी मनमोहन की बाजी भजन लिरिक्स

0
902
बार देखा गया
बाजी बाजी रे बांसुरी मनमोहन की बाजी भजन लिरिक्स

बाजी बाजी रे बांसुरी,
मनमोहन की बाजी,
बाजी बांसुरी की तान,
सखियां भई हैरान,
भागी यमुना तट को भागी,
बाजी बाजी रे बाँसुरी,
मनमोहन की बाजी,
बाजी बाजी रे बांसुरी।।



खिली चांदनी शरद रैन की,

श्री यमुना जी के तीरे,
श्री यमुना जी के तीरे,
श्री यमुना जी के तीरे,
कर में मुरली चरणन नूपुर,
बाजत धीरे-धीरे,
बाजत धीरे-धीरे,
बाजत धीरे-धीरे,
ईत मोर मुकुट उत,
शीश चंद्रिका साजे,
बाजी बांसुरी की तान,
सखियां भई हैरान भागी,
यमुना तट को भागी,
बाजी बाजी रे बाँसुरी,
मनमोहन की बाजी,
बाजी बाजी रे बांसुरी।।



श्री वृंदावन रस भूमि में,

रास रचो अति भारी,
रास रचो अति भारी,
रास रचो अति भारी,
ठुमक ठुमकना यह प्रिया प्रीतम,
जाए सखी बलिहारी,
जाये सखी बलिहारी,
जाये सखी बलिहारी,
कुंज कुंजन में सखियां,
प्रीतम के संग राजी,
बाजी बांसुरी की तान,
सखियां भई हैरान भागी,
यमुना तट को भागी,
बाजी बाजी रे बाँसुरी,
मनमोहन की बाजी,
बाजी बाजी रे बांसुरी।।



पागल भाई सब सखि सहचरी,

प्रेम रंग रस बरसे,
प्रेम रंग रस बरसे,
प्रेम रंग रस बरसे,
निरख निरख अद कुदरस लीला,
‘चित्र विचित्र’ मन हरषे,
‘चित्र विचित्र’ मन हरषे,
‘चित्र विचित्र’ मन हरषे,
प्रिया प्रीतम की दिव्य छवि,
हृदय बीच विराजी,
बाजी बांसुरी की तान,
सखियां भई हैरान भागी,
यमुना तट को भागी,
बाजी बाजी रे बाँसुरी,
मनमोहन की बाजी,
बाजी बाजी रे बांसुरी।।



बाजी बाजी रे बांसुरी,

मनमोहन की बाजी,
बाजी बांसुरी की तान,
सखियां भई हैरान,
भागी यमुना तट को भागी,
बाजी बाजी रे बाँसुरी,
मनमोहन की बाजी,
बाजी बाजी रे बांसुरी।।

गायक – बाबा श्री चित्र विचित्र जी महाराज,
प्रेषक – शेखर चौधरी मो – 9074110618


आपको ये भजन कैसा लगा? जरूर बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम