भजना में जावा कोणी दे हाछी परणाई नुगरा माल ने ओ म्हारा राम

0
219
बार देखा गया
भजना में जावा कोणी दे हाछी परणाई नुगरा माल ने ओ म्हारा राम

भजना में जावा कोणी दे,
हाछी परणाई नुगरा,
माल ने ओ म्हारा राम,
हाछी परणाई रावल,
माल ने ओ म्हारा राम।।



किउ नही किणी वन री,

रोजड़ी ओ म्हारा राम,
चरती हरियो हरियो घास,
आवता साधुडा रा लेती,
वारना ओ म्हारा राम,
वेतो म्हारो जग में अमर नाम,
हाछी परणाई नुगरा,
माल ने ओ म्हारा राम।।



किउ नही किणी कुआँ,

बावड़ी हो म्हारा राम,
रहती मार्गा माय,
आवता साधुडा पानी,
पिवता ओ म्हारा राम,
वेतो म्हारो जग में अमर नाम,
हाछी परणाई नुगरा,
माल ने ओ म्हारा राम।।



किउ नही किणी पारस,

पिपली ओ म्हारा राम,
रहती वन रे माय
आवता साधुडा छाया,
बैठता म्हारा राम,
वेतो म्हारो जग में अमर नाम,
हाछी परणाई नुगरा,
माल ने ओ म्हारा राम।।



हाथ जोडेने रूपा,

बोलिया ओ म्हारा राम,
म्हारे साधुडा रो,
अमरापुर में वास,
वेतो म्हारो जग में अमर नाम,
हाछी परणाई नुगरा,
माल ने ओ म्हारा राम।।



भजना में जावा कोणी दे,

हाछी परणाई नुगरा,
माल ने ओ म्हारा राम,
हाछी परणाई रावल,
माल ने ओ म्हारा राम।।

गायक – प्रकाश माली जी।
भजन प्रेषक – श्रवण सिंह राजपुरोहित।
सम्पर्क – +91 90965 58244


आपको ये भजन कैसा लगा? जरूर बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम