भजले राम राधेश्याम सीताराम भजले भजन लिरिक्स

0
2131
बार देखा गया
भजले राम राधेश्याम सीताराम भजले जिंदगानी का कोई भरोसा नहीं

भजले राम राधेश्याम,
सीताराम भजले,
जिंदगानी का कोई भरोसा नहीं,
जिंदगानी का कोई भरोसा नहीं,
जिंदगानी का कोई भरोसा नहीं,
भजले राम राधे-श्याम,
सीताराम भजले,
जिंदगानी का कोई भरोसा नहीं।।

तर्ज – सलामे इश्क़ मेरी जा जरा।



बाली बलवान था,

बल का अभिमान था,
बाली बलवान था,
बल का अभिमान था,
वो भी मारा गया राम के बाणों से,
वो भी मारा गया राम के बाणों से,
भजले राम राधे-श्याम,
सीताराम भजले,
जिंदगानी का कोई भरोसा नहीं।।



रावण बलवान था,

बल का अभिमान था,
रावण बलवान था,
बल का अभिमान था,
वो भी मारा गया राम के हाथों से,
वो भी मारा गया राम के हाथों से,
भजले राम राधे-श्याम,
सीताराम भजले,
जिंदगानी का कोई भरोसा नहीं।।



कंस बलवान था,

बल का अभिमान था,
कंस बलवान था,
बल का अभिमान था,
वो भी मारा गया कृष्ण के हाथों से,
वो भी मारा गया कृष्ण के हाथों से,
भजले राम राधे-श्याम,
सीताराम भजले,
जिंदगानी का कोई भरोसा नहीं।।



भजले राम राधेश्याम,

सीताराम भजले,
जिंदगानी का कोई भरोसा नहीं,
जिंदगानी का कोई भरोसा नहीं,
जिंदगानी का कोई भरोसा नहीं,
भजले राम राधे-श्याम,
सीताराम भजले,
जिंदगानी का कोई भरोसा नहीं।।


‘भजन डायरी’ टीम द्वारा लिखा गया।
अभी वीडियो उपलब्ध नहीं।

आपको ये भजन कैसा लगा? जरूर बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम