बिरज की छोरी से राधिका गौरी से मईया करा दे मेरो ब्याह भजन लिरिक्स

0
776
बार देखा गया

बिरज की छोरी से राधिका गौरी से,
मईया करा दे मेरो ब्याह,
अरे ओ सुनले ओ माँ मेरी,
बिरज की छोरी से राधिका गौरी से,
मईया करा दे मेरो ब्याह।।
तर्ज – हम तुम चोरी से।



जो ना ब्याह कराये,
तेरी गैया नाही चराऊँ,

जो ना ब्याह कराये,
तेरी गैया नाही चराऊँ,

आज के बाद मोरी मइया,
तेरी देहली पर ना आऊँ,

आज के बाद मोरी मइया,
तेरी देहली पर ना आऊँ,

आएगा रे मजा रे मजा,
अब जीत हार का,

बिरज की छौरी से राधिका गौरी से,
मईया करा दे मेरो ब्याह।।



छोटी सी दुल्हनिया,
जब अंगना में डोलेगी,

छोटी सी दुल्हनिया,
जब अंगना में डोलेगी,

तेरे सामने मईया,
वो घुंगट ना खोलेगी,

तेरे सामने मईया,
वो घुंगट ना खोलेगी,

दाऊ से जा कहो जा कहो,
बैठे वो द्वार पे,

बिरज की छोरी से राधिका गौरी से,
मईया करा दे मेरो ब्याह।।



चन्दन की चौकी पर,
मइया तुझको बैठाऊँ,

चन्दन की चौकी पर,
मइया तुझको बैठाऊँ,

अपनी राधा से मैं,
चरण तेरे दबवाऊँ,

अपनी राधा से मैं,
चरण तेरे दबवाऊँ,

भोजन मैं बनवाऊंगा बनवाऊंगा,
छप्पन प्रकार के,

बिरज की छौरी से राधिका गौरी से,
मईया करा दे मेरो ब्याह।।



उमर तेरी छोटी है,
नज़र तेरी खोटी है,

उमर तेरी छोटी है,
नज़र तेरी खोटी है,

कैसे करा दूँ तेरो ब्याह,
अरे ओ सुनले ओ माँ मेरी,
बिरज की छोरी से राधिका गौरी से,
मईया करा दे मेरो ब्याह।।


आपको ये भजन कैसा लगा? हमें बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम