चली आती हो माँ भक्त़ो के लिए

0
3369
बार देखा गया
चली आती हो माँ भक्त़ो के लिए

चली आती हो माँ,
भक्त़ो के लिए,
मेरे कारण भी आना होगा।।

तर्ज – जब आती होगी याद मेरी।



कबसे देखूँ माँ रस्ता तुम्हारी,

कब आओगी माँ शेरोवाली,
मेरी खातिर तुम्हे मातारानी,
कष्ट इतना तो करना होगा,
चली आती हों माँ,
भक्त़ो के लिए,
मेरे कारण भी आना होगा।।



आकर दर्शन ओ मैया दिखादो,

मुझे चरणो से अपने लगालो,
अपने भक्तो को माँ तुमने तारा,
पार मुझको भी करना होगा,
चली आती हों माँ,
भक्त़ो के लिए,
मेरे कारण भी आना होगा।।



चाहूँ न मै कभी मैया मुक्ती,

मुझपे होती रहे कृपा दृष्टी,
तेरे चरणो मे झोली फैलाई,
मेरी झोली भी भरनी होगी,
चली आती हों माँ,
भक्त़ो के लिए,
मेरे कारण भी आना होगा।।



चली आती हो माँ,

भक्त़ो के लिए,
मेरे कारण भी आना होगा।।

– भजन लेखक एवं प्रेषक –
श्री शिवनारायण वर्मा,
मोबा.न.8818932923

वीडियो उपलब्ध नहीं।


 

आपको ये भजन कैसा लगा? जरूर बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम