​मेरे सर पर रखदो मईया अपने ये दोनों हाथ भजन लिरिक्स

0
3514
बार देखा गया
​मेरे सर पर रखदो मईया अपने ये दोनों हाथ भजन लिरिक्स

​मेरे सर पर रखदो मईया जी,
अपने ये दोनों हाथ,
देना हो तो दीजिए,
जनम जनम का साथ।। 



इस जनम मे सेवा देकर,

बहूत बड़ा अहसान कीया,
तूही साथी तू ही खिवैया,
मेने तुझे पहचान लिया,
हम साथ रहे जन्मों तक,
हम साथ रहे जन्मों तक,
बस रखना इतनी बात,
देना हो तो दीजिए,
जनम जनम का साथ।। 



झुलस रहें है गम की धुप में,

प्यार की छईया कर दे तू,
बिन पानी के नाव चले ना,
अब पतवार पकड़ ले तू,
मेरा रस्ता रौशन कर दे,
मेरा रस्ता रौशन कर दे,
छायी अंधियारी रात,
देना हो तो दीजिए,
जनम जनम का साथ।। 



देने वाली मैय्या हो तो,

धन और दौलत क्या मांगे,
साथ अगर मैय्या का हो तो,
नाम और इज्जत क्या मांगे,
मेरे जीवन में तू कर दे,
मेरे जीवन में तू कर दे,
माँ किरपा की बरसात,
देना हो तो दीजिए,
जनम जनम का साथ।। 



मात तेरे चरणों की धूल ये,

धन दौलत से महंगी है,
एक नज़र कृपा की मैय्या,
नाम इज्जत से महंगी है,
मेरे दिल की तम्मना यही है,
मेरे दिल की तम्मना यही है,
करूँ सेवा तेरी दिन रात,
देना हो तो दीजिए,
जनम जनम का साथ।। 



सुना है हमने शरणागत को,

अपने गले लगाती हो,
ऐसा हमने क्या माँगा जो,
देने से घबराती हो,
चाहे जैसे रखलो मैया,
चाहे जैसे रखलो मैया,
बस होती रहे मुलाकात,
देना हो तो दीजिए,
जनम जनम का साथ।। 



​मेरे सर पर रखदो मईया जी,

अपने ये दोनों हाथ,
देना हो तो दीजिए,
जनम जनम का साथ।। 


आपको ये भजन कैसा लगा? जरूर बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम