गजानन कर दो बेडा पार आज हम तुम्हे मनाते हैं

0
71
बार देखा गया
गजानन कर दो बेडा पार आज हम तुम्हे मनाते हैं

गजानन कर दो बेडा पार,
आज हम तुम्हे मनाते हैं,
तुम्हे मनाते हैं,
गजानन तुम्हे मनाते हैं।।



सबसे पहले तुम्हें मनावें,

सभा बीच में तुम्हें बुलावें,
सभा बीच में तुम्हें बुलावें है,
गजानन कर दो बेडा पार,
आज हम तुम्हे मनाते हैं।।



आओ पार्वती के लाला,

मूषक वाहन सूंड सुन्दाला,
मूषक वाहन सूंड सुन्दाला,
गजानंद कर दो बेडा पार,
आज हम तुम्हे मनाते हैं।।


भक्त जनों ने टेर लगाई,
सबने मिलकर महिमा गाई,
सबने मिलकर महिमा गाई,
गजानंद कर दो बेडा पार,
आज हम तुम्हे मनाते हैं।।



उमापति शंकर के प्यारे,

तू भक्तों के काज सवारे,
तू भक्तों के काज सवारे,
गजानंद कर दो बेडा पार,
आज हम तुम्हे मनाते हैं।।



लड्डू पेडा भोग लगावें,

पान सुपारी पुष्प चढावें,
पान सुपारी पुष्प चढावें,
गजानंद कर दो बेडा पार,
आज हम तुम्हे मनाते हैं।।



गजानन कर दो बेडा पार,

आज हम तुम्हे मनाते हैं,
तुम्हे मनाते हैं,
गजानन तुम्हे मनाते हैं।।


कोई जवाब दें

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम