गजानंद नाव मेरी पड़ी मजधार है गणेश जी भजन लिरिक्स

3
1819
बार देखा गया

गजानंद नाव मेरी पड़ी मजधार है,
तर्ज – थोड़ा सा प्यार हुआ है थोड़ा है बाकि

गजानंद नाव मेरी पड़ी मजधार है,
तू ही खिवैया जग का तू ही पतवार है,
गजानन्द नाव मेरी पड़ी मजधार है।।

तुम ही रिद्धि सिद्धि के दाता,
गजानंद पार करना,
नाव है बिच भंवर में,
मेरा उद्धार करना,
अब तो तेरे भरोसे हो ओ ओ,
मेरा परिवार है,
गजानन्द नाव मेरी पड़ी मजधार है।।

मेरे ओ गणपति देवा,
करूँ अब तेरी सेवा,
भोग लड्डुअन का लगाऊं,
दूर करो कष्ट देवा,
तुझको पहले मनाता हो ओ ओ,
सारा संसार है,
गजानन्द नाव मेरी पड़ी मजधार है।।

मेरे परिवार को देवा,
सदा खुशहाल रखना,
दया की दृष्टि रखना,
तू मालामाल करना,
तेरा ही ध्यान लगता हो ओ ओ,
सेवक हर बार है,
गजानन्द नाव मेरी पड़ी मजधार है।।

गजानन्द नाव मेरी पड़ी मजधार है,
तू ही खिवैया जग का तू ही पतवार है,
गजानंद नाव मेरी पड़ी मजधार है।।

3 टिप्पणी

      • bhajan diary ka konsa version aapne isntall kiya hai? Abhi latest 1.04 hai. Yadi aapke paas purana version hai to use update kar le.
        Mobile app me search karne se pahle aap sabse pahle apna net chalu karke sabhi category ke saare bhajan ek bar Load kar le. Uske baad search kare, to vo ho jaega. Dusra option hai – aap play store se ‘google indic keyboard’ download kar le, or search karte samay apni imput method hindi rakhe isse better search hoga.

        Yadi ye sab bhi karne ke baad, aap search nahi kar pate hai to mujhe mere, Whatsapp (7879091101) par contact kare.

        Jay Shri Krishna,
        Shekhar M.
        Bhajandiary.com

आपको ये भजन कैसा लगा? हमें बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम