गजानंद वंदन करते है श्री गणेश वंदना लिरिक्स

0
3196
बार देखा गया
गजानंद वंदन करते है श्री गणेश वंदना

गजानंद वंदन करते है,
तर्ज – आज मेरे यार की शादी है।



आज सभा में स्वागत है,

अभिनंदन करते है,
गजानंद वंदन करते है,
गजानंद वंदन करते है,
वंदन करते है, आज,
अभिनंदन करते है,
वंदन करते है, आज,
अभिनंदन करते है,
गजानंद वंदन करते है,
गजानंद वंदन करते है।।



देव तुमसा ना दूजा,

प्रथम हो तेरी पूजा,
नाम तेरे का डंका,
आज घर घर में गूंजा,
वेद पुराण शास्त्र,
सब तेरा वर्णन करते है।

गजानंद वंदन करते है,
गजानंद वन्दन करते है,
वंदन करते है, आज,
अभिनंदन करते है,
वंदन करते है, आज,
अभिनंदन करते है,
गजानंद वन्दन करते है,
गजानंद वन्दन करते है।।



उमा शंकर के प्यारे,

हमारे बनो सहारे,
रिद्धि सिद्धि के दाता,
भरो भंडार हमारे,
गले हार पहनाकर,
माथे चंदन करते है।

गजानंद वन्दन करते है,
गजानंद वन्दन करते है,
वंदन करते है, आज,
अभिनंदन करते है,
वंदन करते है, आज,
अभिनंदन करते है,
गजानंद वन्दन करते है,
गजानंद वन्दन करते है।।



तेरी अद्भुत है माया,

कोड़ियो को दे काया,
भरी भक्तो की झोलियाँ,
शरण जो तेरी आया,
तेरी दया से अंधे भी,
जग दर्शन करते है।

गजानंद वन्दन करते है,
गजानंद वन्दन करते है,
वंदन करते है, आज,
अभिनंदन करते है,
वंदन करते है, आज,
अभिनंदन करते है,
गजानंद वन्दन करते है,
गजानंद वन्दन करते है।।



‘मातृदत्त’ विनती करता,

लाभ शुभ देवो आकर,
श्याम सुन्दर गुण गाता,
बस तेरा ध्यान लगाकर,
दर्शन देकर करो कृपा,
तेरा सुमिरन करते है।

गजानंद वन्दन करते है,
गजानंद वन्दन करते है,
वंदन करते है, आज,
अभिनंदन करते है,
वंदन करते है, आज,
अभिनंदन करते है,
गजानंद वन्दन करते है,
गजानंद वन्दन करते है।।


आपको ये भजन कैसा लगा? जरूर बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम