गुरु चरण कमल बलिहारी रे गुरुदेव भजन लिरिक्स

0
607
बार देखा गया
गुरु चरण कमल बलिहारी रे गुरुदेव भजन लिरिक्स

गुरु चरण कमल बलिहारी रे,
मेरे मन की दुविधा टारि रे,
गुरु चरण कमल बलिहारी रे।।


भव सागर में नीर अपारा,
डूब रहा नहीं मिले किनारा,
पल में नैया उबारी रे,
गुरु चरण कमल बलिहारि रे,
मेरे मन की दुविधा टारि रे,
गुरु चरण कमल बलिहारी रे।।


काम क्रोध मद लोभ लुटेरे,
जनम जनम के बैरी मेरे,
सबको दीन्हा मारी रे,
गुरु चरण कमल बलिहारि रे,
मेरे मन की दुविधा टारि रे,
गुरु चरण कमल बलिहारी रे।।


भेद भाव सब दूर कराया,
पूरण ब्रम्ह एक दर्शाया,
घट घट ज्योति निहारी रे,
गुरु चरण कमल बलिहारि रे,
मेरे मन की दुविधा टारि रे,
गुरु चरण कमल बलिहारी रे।।


जोग जुगत गुरुदेव बतलाई,
ब्रम्हानंद शांति मन आई,
मानुष देह उधारी रे,
गुरु चरण कमल बलिहारि रे,
मेरे मन की दुविधा टारि रे,
गुरु चरण कमल बलिहारी रे।।


गुरु चरण कमल बलिहारी रे,
मेरे मन की दुविधा टारि रे,
गुरु चरण कमल बलिहारी रे।।


आपको ये भजन कैसा लगा? हमें बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम