गुरु रहमत से तर जाएगा भजन लिरिक्स

0
809
बार देखा गया
गुरु रहमत से तर जाएगा भजन लिरिक्स

गुरु रहमत से तर जाएगा,
गुरु रहमत से तर जाएगा,
जरा इस दर पे आकर तो देख,
तेरा जीवन संवर जाएगा,
गुरु रहमत से तर जाएगा।।

तर्ज – राम कहने से तर जाएगा।



इनके दर्शन की महिमा बड़ी,

इतनी शुभ होती है वो घडी,
तेरा दिल भी यही गाएगा,
गुरु शरणी तू गर आएगा,
गुरु रहमत से तर जाएगा।।



तू तमन्ना किसी की ना कर,

बस ह्रदय में गुरु ध्यान कर,
बिन मांगे तू सब पाएगा,
गुरु शरणी तू गर आएगा,
गुरु रहमत से तर जाएगा।।



ये दयालु है दाता मेरे,

ये तो सबके दिलो में बसे,
इनके दर पे तू सब पाएगा,
गुरु शरणी तू गर आएगा,
गुरु रहमत से तर जाएगा।।



इनकी करुणा का वर्णन नहीं,

ऐसी शांति ना मिलती कहीं,
जो भी आया संवर जाएगा,
गुरु शरणी तू गर आएगा,
गुरु रहमत से तर जाएगा।।



गुरु रहमत से तर जाएगा,

गुरु रहमत से तर जाएगा,
जरा इस दर पे आकर तो देख,
तेरा जीवन संवर जाएगा,
गुरु रहमत से तर जाएगा।।


आपको ये भजन कैसा लगा? जरूर बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम