हिंडो घला दयो ओ सत्संग माई ने राजस्थानी भजन

0
271
बार देखा गया
हिंडो घला दयो ओ सत्संग माई ने राजस्थानी भजन

हिंडो घला दयो ओ सत्संग माई ने,
दोहा – सतगुरु के दरबार में,

नर जाइए बारंबार,
भूली वस्तु बताएं दी,
मेरे सतगुरु दातार।

हिंडो घला दयो ओ सत्संग माई ने,
ओ गुरूजी हिंनडे हिंनडे सुरता नार,
अो सतगुरु जी महारा,
हिंनडे हिंनडे सुरता नार।।



काया मंदिर में आमली ओ गुरूजी,

छाई छाई घेर घुमेर,
सतगुरु जी महारा,
छाई छाई घेर घुमेर।।

हिंडो घला द्यो ओ सत्संग माई ने,
ओ गुरूजी हिंनडे हिंनडे सुरता नार,
अो सतगुरु जी महारा,
हिंनडे हिंनडे सुरता नार।।



अगड चन्दन रो पलनो ओ गुरूजी,

घाली घाली रेशम डोर,
सतगुरु जी महारा,
घाली घाली रेशम डोर।।

हिंडो घला द्यो ओ सत्संग माई ने,
ओ गुरूजी हिंनडे हिंनडे सुरता नार,
अो सतगुरु जी महारा,
हिंनडे हिंनडे सुरता नार।।


सात सहेलियां जूल री ओ गुरूजी,
गावे गावे मंगला चार,
सतगुरु जी महारा,
गावे गावे मंगला चार।।

हिंडो घला द्यो ओ सत्संग माई ने,
ओ गुरूजी हिंनडे हिंनडे सुरता नार,
अो सतगुरु जी महारा,
हिंनडे हिंनडे सुरता नार।।



नाथ गुलाब की विनती या गुरुजी,

गावे गावे बाने भोला नाथ,
ओ सतगुरु जी महारा,
गावे भोला नाथ।।

हिंडो घला द्यो ओ सत्संग माई ने,
ओ गुरूजी हिंनडे हिंनडे सुरता नार,
अो सतगुरु जी महारा,
हिंनडे हिंनडे सुरता नार।।



हिंडो घला दयो ओ सत्संग माई ने,

ओ गुरूजी हिंनडे हिंनडे सुरता नार,
अो सतगुरु जी महारा,
हिंनडे हिंनडे सुरता नार।।

– भजन गायिका –
रामीबाई।
– भजन प्रेषक –
सुरेश खोड़ा जयपुर।


आपको ये भजन कैसा लगा? जरूर बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम