जटाधारी बनके त्रिपुरारी बनके चले आना भजन लिरिक्स

0
1137
बार देखा गया
जटाधारी बनके त्रिपुरारी बनके चले आना भजन लिरिक्स

जटाधारी बनके त्रिपुरारी बनके,
चले आना भोले जी चले आना।।

तर्ज – कभी राम बनके।



तुम औघड़ रूप में आना,

तुम औघड़ रूप में आना,
भूत साथ लेके मुंड हाथ लेके,
चले आना भोले जी चले आना।
जटाधारी बन के त्रिपुरारी बनके,
चले आना भोले जी चले आना।।



तुम भंगिया रूप में आना,

तुम भंगिया रूप में आना,
झोला हाथ लेके भंग साथ लेके,
चले आना भोले जी चले आना।
जटाधारी बन के त्रिपुरारी बनके,
चले आना भोले जी चले आना।।



तुम जोगिया रूप में आना,

तुम जोगिया रूप में आना,
डमरू हाथ लेके नंदी साथ लेके,
चले आना भोले जी चले आना।
जटाधारी बन के त्रिपुरारी बनके,
चले आना भोले जी चले आना।।



तुम मोहिनी रूप में आना,

तुम मोहिनी रूप में आना,
गंगा साथ लेके चंदा माथ लेके,
चले आना भोले जी चले आना।
जटाधारी बन के त्रिपुरारी बनके,
चले आना भोले जी चले आना।।



तुम भोले रूप में आना,

तुम भोले रूप में आना,
गोरा साथ लेके त्रिशूल हाथ लेके,
चले आना भोले जी चले आना।
जटाधारी बन के त्रिपुरारी बनके,
चले आना भोले जी चले आना।।



जटाधारी बनके त्रिपुरारी बनके,

चले आना भोले जी चले आना,
जटाधारी बन के त्रिपुरारी बनके,
चले आना भोले जी चले आना।।

Singer : Tripti Shakya


आपको ये भजन कैसा लगा? जरूर बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम