कण कण में तेरा जलवा कुदरत का इशारा है भजन लिरिक्स

0
109
बार देखा गया
कण कण में तेरा जलवा कुदरत का इशारा है भजन लिरिक्स

कण कण में तेरा जलवा,
कुदरत का इशारा है,
तारो में चमक तेरी,
चंदा में नजारा है।।


जबसे मेरे गुरुवर का,
मन में परकाश हुआ,
मैं जान गया घट में,
प्रभु वास तुम्हारा है,
कण कण मे तेरा जलवा,
कुदरत का इशारा है।।


मैं खेल समझता था,
दुनिया के झमेले को,
कर दिया गुरु ने दूर,
मन से अँधियारा है,
कण कण मे तेरा जलवा,
कुदरत का इशारा है।।


जग झंझट छूट गए,
ये करम है सतगुरु का,
हमें गुरु भी प्यारा है,
गोविन्द भी प्यारा है,
कण कण मे तेरा जलवा,
कुदरत का इशारा है।।


सांसो में बसा गुरुवर,
धड़कन में बसा दाता,
अब मौत से क्या डरना,
जब गुरु का सहारा है,
कण कण मे तेरा जलवा,
कुदरत का इशारा है।।


तेरे दास की है विनती,
बस एक तमन्ना है,
जब रूठे ना तुम रूठो,
मेरा कहाँ गुजारा है,
कण कण मे तेरा जलवा,
कुदरत का इशारा है।।


कण कण में तेरा जलवा,
कुदरत का इशारा है,
तारो में चमक तेरी,
चंदा में नजारा है।।


कोई जवाब दें

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम