कान्हा कूद पढ्यो रे जमुना में मनीष तिवारी भजन लिरिक्स

0
482
बार देखा गया
कान्हा कूद पढ्यो रे जमुना में मनीष तिवारी भजन लिरिक्स

कान्हा कूद पढ्यो रे जमुना में,
रे कान्हा कूद पढ्यो रे जमुना में,
कालिया नाग खदेड़ियायो,
आ रा रा रा रा।।


आ रा रा रा रा,
कान्हा नित है चुरावे माखन,
कन्हैया नित ही चुरावे माखन,
मटकी फ़ोड के घर भाग्यो,
आ रा रा रा रा।।


आ रा रा रा रा,
रे मामा कंस खड्यो गुर्रावे,
मामा कंस खड्यो गुर्रावे,
कन्हैया वध कर डारो रे,
आ रा रा रा रा।।


आ रा रा रा रा,
कान्हा जब जब मुरली बजावे,
कन्हैया जब जब मुरली बजावे,
राधा रास रचावे रे,
आ रा रा रा रा।।


आ रा रा रा रा,
रे कान्हा झूला झूले रे मधुबन में,
कान्हा झूला झूले रे मधुबन में,
सखिया झूलो झुलावे रे,
आ रा रा रा रा।।


आ रा रा रा रा,
रे जो भी गावे राधे कृष्णा,
जो भी गावे राधे कृष्णा,
वो तो भव तर जावे रे,
आ रा रा रा रा।।


कान्हा कूद पढ्यो रे जमुना में,
रे कान्हा कूद पढ्यो रे जमुना में,
कालिया नाग खदेड़ियायो,
आ रा रा रा रा।।


आपको ये भजन कैसा लगा? जरूर बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम