कौन काटता राम के बंधन जो हनुमान ना होते भजन लिरिक्स

0
605
बार देखा गया
कौन काटता राम के बंधन जो हनुमान ना होते भजन लिरिक्स

कौन काटता राम के बंधन,
जो हनुमान ना होते,
जो हनुमान ना होते,
कौन काटता राम के बंधन,
जो हनुमान ना होते।।



राम और रावण युद्ध हुआ,

हनुमान ने रक्षा किन्ही,
हनुमान ने रक्षा किन्ही,
लक्ष्मण को शक्ति लागि,
ला संजीवनी दीन्हि,
ला संजीवनी दीन्हि,
कौन बचाता लक्ष्मण जी को,
जो हनुमान ना होते,
जो हनुमान ना होते,
कौन काटता राम के बंधन,
जो हनुमान ना होते।।



राम लखन को हर कर ले गया,

अहिरावण बलकारी,
अहिरावण बलकारी,
बलि चढ़ाने काली की जब,
उसने करि तैयारी,
उसने करि तैयारी,
काली रूप धारकर हनु ने,
अहिरावण को मारा,
राम लखन को छुड़ाके लाया,
ये ही राम दुलारा,
ये ही राम दुलारा,
कौन काटता ये सब संकट,
जो हनुमान ना होते,
जो हनुमान ना होते,
कौन काटता राम के बँधन,
जो हनुमान ना होते।।



भरत के प्राण बचावन कारण,

आप अयोध्या आए,
आप अयोध्या आए,
आय रहे है राम जी,
समाचार पहुंचाए,
समाचार पहुंचाए,

भरत ने उनको गले लगाया,
धन्य धन्य उपकारी,
धन्य धन्य उपकारी,
तुम ना होते हनुमान तो,
जलती चिता हमारी,
जलती चिता हमारी,
भरत की विपदा कौन मिटाता,
जो हनुमान ना होते,
जो हनुमान ना होते,
कौन काटता राम के बंधन,
जो हनुमान ना होते।।



कौन काटता राम के बँधन,

जो हनुमान ना होते,
जो हनुमान ना होते,
कौन काटता राम के बंधन,
जो हनुमान ना होते।।



जय जय महावीर बजरंगबलि,

जय जय महावीर बजरंगबलि,
बजरंगबली मोरी नाँव चली,
बजरंगबली मोरी नाँव चली,
जय जय महावीर बजरंगबलि।

बोलो बजरंगबली की जय।।


आपको ये भजन कैसा लगा? हमें बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम