माँ की हर बात निराली है बात निराली है की हर करामात निराली है

0
2418
बार देखा गया
माँ की हर बात निराली है बात निराली है की हर करामात निराली है

माँ की हर बात निराली है,
तर्ज – आज मेरे यार की शादी है।

श्लोक – पास की सुनती है,
दूर की सुनती है,
गुमनाम के संग संग,
मशहूर की सुनती है,
माँ तो आखिर माँ है,
माँ के भक्तो,
माँ तो हर,
मजबूर की सुनती है।



माँ की हर बात निराली है,

बात निराली है,
की हर करामात निराली है,
माँ की हर बात निराली है,
महादाती से सब को मिली,
सौगात निराली है,
माँ की हर बात निराली है।।



वक्त की चाल बदले,

दुःख की जंजाल बदले,
इसके चरणों में झुक कर,
बड़े कंगाल बदले,
यहाँ जो आये सवाली,
कभी वो जाए ना खाली,
यह लाती पतझड़ में भी,
हर चमन में हरियाली,
काली रातो में लाती,
प्रभात निराली है,
माँ की हर बात निराली है।।



दया जब इसकी होती,

तो कंकर बनते मोती,
जिसे यह आप जगादे,
ना फिर किस्मत वो सोती,
गमो से घिरने वाले,
बड़े इस माँ ने संभाले,
फसे मझदार में बेड़े,
इसी ने बाहर निकाले,
इसकी मीठी ममता की,
बरसात निराली है,
माँ की हर बात निराली है।।



दुःख काटती है ये,

सुख बांटती है ये,
हमे पालती है ये दिनरात ही,
जादू इसका अजीब,
देखो होके करीब,
ये तो बदले नसीब दिन रात ही,
इस की रहमत,
हर निर्दोष के साथ निराली है,
माँ की हर बात निराली है।।



माँ की हर बात निराली है,

बात निराली है,
की हर करामात निराली है,
माँ की हर बात निराली है,
महादाती से सब को मिली,
सौगात निराली है,
माँ की हर बात निराली है।।


आपको ये भजन कैसा लगा? हमें बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम