मैं वारी जाऊं रे बलिहारी जाऊं रे म्हारे सतगुरु आंगण आया

0
121
बार देखा गया
मैं वारी जाऊं रे बलिहारी जाऊं रे म्हारे सतगुरु आंगण आया

मैं वारी जाऊं रे,
बलिहारी जाऊं रे,
म्हारे सतगुरु आंगण आया,
मैं वारी जाऊं रे,
म्हारा दाता आंगण आया,
मैं वारी जाऊं रे।।



म्हारा सतगुरु आंगण आया,

मैं गंगा गोमती नहाया,
रे मारी निर्मल हो गयी काया,
मै वारी जाऊं रे,
म्हारा दाता आंगण आया,
मैं वारी जाऊं रे।।



म्हारा सतगुरु दर्शन दीन्हा,

म्हारा भाग उदय कर दीन्हा,
मेरा भरम वरम सब छीना,
मै वारी जाऊं रे,
म्हारा दाता आंगण आया,
मैं वारी जाऊं रे।।



सब सखी मिलकर आओ,

केसर रा तिलक लगावो,
गुरुदेव ने बधाओं,
मै वारी जाऊं रे,
म्हारा दाता आंगण आया,
मैं वारी जाऊं रे।।



म्हारी सत्संगी बन गयी भारी,

थे गाओ मंगला चारी,
मेरी खुली ह्रदय की ताली,
मै वारी जाऊं रे,
म्हारा दाता आंगण आया,
मैं वारी जाऊं रे।।



दास नारायण जस गावे,

चरणों में सीस नवायों,
मेरा सतगुरु पार उतारे,
मै वारी जाऊं रे,
म्हारा दाता आंगण आया,
मैं वारी जाऊं रे।।



मैं वारी जाऊं रे,

बलिहारी जाऊं रे,
म्हारे सतगुरु आंगण आया,
मैं वारी जाऊं रे,
म्हारा दाता आंगण आया,
मैं वारी जाऊं रे।।



यह भजन इसी एप्प,

द्वारा जोड़ा गया। आप भी अपना,
भजन यहाँ जोड़ सकते है।

प्रेषक – अशोक माली,
cont. 8769333038


आपको ये भजन कैसा लगा? जरूर बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम