मईया दिल मेरा खो गया इन पहाड़ो में भजन लिरिक्स

0
2938
बार देखा गया
मईया दिल मेरा खो गया इन पहाड़ो में भजन लिरिक्स

मईया दिल मेरा खो गया इन पहाड़ो में,
तर्ज – अल्लाह ये अदा कैसी है इन हसीनो में
मईया दिल मेरा खो गया इन पहाड़ो में,
तेरे जलवो में तेरे नजारों में,
मईया दिल मेरा खो गया इन पहाड़ो में।।

तेरा दुनिया में कौन सानी है,
तेरा दुनिया में कौन सानी है,
ये हकीकत है या कहानी है,
नूर तेरा है चाँद और तारो में,
नूर तेरा है चाँद और तारो में,
मईया दिल मेरा खो गया इन पहाड़ो में।।

तेरे द्वारे पे जो भी आता है,
तेरे द्वारे पे जो भी आता है,
भाग्य खुलते है मुस्कुराता है,
बटती है मुरादे हजारो में,
बटती है मुरादे हजारो में,
मईया दिल मेरा खो गया इन पहाड़ो में।।

तेरी शोहरत माँ सुनके आया हूँ,
तेरी शोहरत माँ सुनके आया हूँ,
फूल श्रद्धा के चुन के लाया हूँ,
वो असर है माँ तेरे जयकारो में,
वो असर है माँ तेरे जयकारो में,
मईया दिल मेरा खो गया इन पहाड़ो में।।

मईया दिल मेरा खो गया इन पहाड़ो में,
तेरे जलवो में तेरे नजारों में,
मईया दिल मेरा खो गया इन पहाड़ो में।।

आपको ये भजन कैसा लगा? जरूर बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम