मेरे दिन बंधू भगवान रे गरुड़ पर चढ़कर आ जाना कमल किशोर जी नागर

0
1443
बार देखा गया
मेरे दिन बंधू भगवान रे @ bhajandiary.com

मेरे दिन बंधू भगवान रे,
गरुड़ पर चढ़कर आ जाना।।

मेरी साँस चले ना पावा,
ना जिव्हा चले ना गाना,
मेरा जिव चले भगवान तो तुम,
शिव जी बनकर आ जाना,
मेरे दिन बंधु भगवान रे,
गरुड़ पर चढ़कर आ जाना।।

गुजरू जब में गुलजारी,
ये दुनिया रहे ना सारी,
गुजरू जब में गुरुदेव तो तुम,
सतगुरु बनकर आ जाना,
मेरे दिन बंधु भगवान रे,
गरुड़ पर चढ़कर आ जाना।।

चलने की हो तैयारी,
तब घोडा मिले ना गाड़ी,
मेरी शैया छूटे घनश्याम तो तुम,
नैया लेकर आ जाना,
मेरे दिन बंधू भगवान रे,
गरुड़ पर चढ़कर आ जाना।।

यमदूत बनाये बंदी,
और काया होगी गन्दी,
जब जाऊँ में शमशाम तो तुम,
नंदी लेकर आ जाना,
मेरे दिन बंधु भगवान रे,
गरुड़ पर चढ़कर आ जाना।।

जब आये मरण का मौका,
कही हो ना जाये धोका,
मेरे ज्ञान के दाता गुरुदेव रे तुम,
कोई नौका लेकर आ जाना,
मेरे दिन बंधु भगवान रे,
गरुड़ पर चढ़कर आ जाना।।

This bhajan is sung by One of the best Bhagwat katha vachak Pandit Shri Kamal Kishor Ji Nagar. In this bhajan man is requesting to god to come to him in particular situation when he is in trouble. Hope you all like it.

कोई जवाब दें

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम