मेरे कान्हा तेरी नौकरी सबसे अच्छी है सबसे खरी भजन लिरिक्स

0
2445
बार देखा गया
मेरे कान्हा तेरी नौकरी सबसे अच्छी है सबसे खरी भजन लिरिक्स

मेरे कान्हा तेरी नौकरी,
सबसे अच्छी है सबसे खरी,
मेरे कान्हा तेरी नोकरी,
सबसे अच्छी है सबसे खरी।।

तर्ज – जिंदगी की ना टूटे लड़ी।



जब से तेरा गुलाम हो गया,

तबसे मेरा भी नाम हो गया,
वरना औकात क्या थी मेरी,
सबसे अच्छी है सबसे खरी,
मेरे कान्हा तेरी नोकरी,
सबसे अच्छी है सबसे खरी।।



तनख्वाह भी कुछ कम नहीं,

कुछ मिले ना मिले गम नहीं,
ऐसी होगी कहां दूसरी,
सबसे अच्छी है सबसे खरी,
मेरे कान्हा तेरी नोकरी,
सबसे अच्छी है सबसे खरी।।



खुशनसीबी का जब गुल खिला,

तब मुझे यह तेरा दर मिला,
बन गई अब तो बिगड़ी मेरी,
सबसे अच्छी है सबसे खरी,
मेरे कान्हा तेरी नोकरी,
सबसे अच्छी है सबसे खरी।।



मेरे कान्हा तेरी नौकरी,

सबसे अच्छी है सबसे खरी,
मेरे कान्हा तेरी नोकरी,
सबसे अच्छी है सबसे खरी।।

गायक – देवी चित्रलेखा जी,
प्रेषक – शेखर चौधरी,
मो – 9074110618


आपको ये भजन कैसा लगा? जरूर बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम