मेरे मन मंदिर में तुम भगवान रहे मेरे दुःख से तुम कैसे अनजान रहे

0
2117
बार देखा गया
मेरे मन मंदिर में तुम

मेरे मन मंदिर में तुम भगवान रहे, 
मेरे दुःख से तुम कैसे अनजान रहे।। 

मेरे घर में कितने दिन मेहमान रहे, 
मेरे दुःख से तुम कैसे अनजान रहे।। 


गणपती बाप्पा मोरया, 
अगले बरस तू जल्दी आ । 



कितनी उम्मीदे बंध जाती है तुम से,

तुम जब आते हो, 
अब के बरस देखे क्या दे जाते हो,
क्या ले जाते हो। 

गणपती बाप्पा मोरया, 
अगले बरस तू जल्दी आ । 

अपने सब भक्तो का तुम को ध्यान रहे
मेरे दुःख से तुम कैसे अनजान रहे।। 



आना जाना जीवन है,
जो आया कैसे जाए ना,

खिलने से पहले ही लेकिन,
फूल कोई मुरझाये ना। 


गणपती बाप्पा मोरया, 
अगले बरस तू जल्दी आ, 

न्याय अन्याय की कुछ पहचान रहे
मेरे दुःख से तुम कैसे अनजान रहे।। 



असुवन का कतरा कतरा,
सागर से भी है गहरा
इसमे डूब ना जाऊं मै,
तुम्हारी जय जय गाऊं में। 

वरना अब जब आओगे,
तुम मुझको ना पाओगे
तुम को कितना दुःख होगा,
गणपती बाप्पा मोरया। 
अपनी जान के बदले अपनी,
जान मै अर्पण करता हूँ, 
आखरी दर्शन करता हूँ,
अब मै विसर्जन करता हुं, 

गणपती बाप्पा मोरया, 
अगले बरस तू जल्दी आ।। 


आपको ये भजन कैसा लगा? जरूर बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम