होम Blog पेज 103

जनम तेरा बातों ही बीत गयो रे तुने कबहू ना कृष्ण...

जनम तेरा बातों ही बीत गयो जनम तेरा बातों ही बीत गयो, रे तुने कबहू ना कृष्ण कहो।। पाँच बरस को भोला भाला, अब तो बीस...

कान्हा तुम्हारे प्यार ने जीना सीखा दिया है

कान्हा तुम्हारे प्यार ने जीना सीखा दिया है,  हमको तुम्हारे प्यार ने इन्सां बना दिया है ॥॥रहते है जलवे आपके नज़रों में हर घडी,  मस्ती का...
कोई मुरली की तान सुना दे मेरे तन मन मे आग लगा दे

कोई मुरली की तान सुना दे मेरे तन मन मे आग...

​कन्हैया ओ कन्हैया, कोई मुरली की तान सुना दे, मेरे तन मन मे आग लगा दे लगा दे ॥॥मै ही तोहे देखुं सांवरियां,  देखे ना कोई दुजी...
माँ दूजा कोई द्वार ना दिखे

तेरे दर को मै छोड़ कहाँ जाऊँ माँ दूजा कोई द्वार...

माँ दूजा कोई द्वार ना दिखे,​श्लोक चाहे छुट जाये ज़माना, या मानो जर छूटे, ये महल और अटारी, या मेरा घर छूटे, पर कहता है...
एक बार तो राधा बनकर देखो मेरे

हो गई रे बदनाम सांवरियां तेरे लिये

हो गई रे बदनाम सांवरियां तेरे लियेगोकुल ढूँढा मेने मथुरा ढूँढी, ढूँढ़ आई ब्रजधाम, सुबह से हो गई शाम सांवरियां तेरे लिये॥ हो गई रे बदनाम सांवरियां...
गजमुख धारी जिसने तेरा

गजमुख धारी जिसने तेरा सच्चे मन से जाप किया

गजमुख धारी जिसने तेरा सच्चे मन से जाप किया, ऐसे पुजारी का स्वयं तुमने सिध्द मनोरथ आप किया॥तुझ चरणों की ओर लगन से, जो साधक...
म्हारा कीर्तन मे रस बरसाओ आओ जी गजानन आओ

म्हारा कीर्तन मे रस बरसाओ आओ जी गजानन आओ

म्हारा कीर्तन मे रस बरसाओ, आओ जी गजानन आओ ।। श्लोक - सदा भवानी दाहिनी, सनमुख रहे गणेश। पांच देव रक्षा करे, ब्रम्हा विष्णु महेश।।  म्हारा...

तेरा दर तो हकीकत में दुखियों का सहारा है

तेरा दर तो हकीकत में, दुखियों का सहारा है, सच कहता हूँ माँ मेरी, तेरे दर से गुजारा है ।बिगड़ी हुई तकदीरें बन जाती है...

मै फिरू श्याम तेरे नाम की जोगन बनके

जाने क्या रंग चढ़ा तेरा मेरे तन मन पे, मै फिरू श्याम तेरे नाम की जोगन बनके॥॥ श्लोक - सांस आती है सांस जाती है, ...
हमें निज धर्म पर चलना सिखाती रोज़ रामायण भजन लिरिक्स @ bhajandiary.com

हमें निज धर्म पर चलना सिखाती रोज़ रामायण भजन लिरिक्स

हमें निज धर्म पर चलना, सिखाती रोज़ रामायण, सदा शुभ आचरण करना, सिखाती रोज़ रामायण॥॥ जिन्हे संसार सागर से, उतर कर पार जाना है, उन्हे सुख के किनारे पर, लगाती रोज़...

इस सप्ताह के भजन