होम भजन पेज 158
गुरु चरण कमल बलिहारी रे गुरुदेव भजन लिरिक्स

गुरु चरण कमल बलिहारी रे गुरुदेव भजन लिरिक्स

गुरु चरण कमल बलिहारी रे, मेरे मन की दुविधा टारि रे, गुरु चरण कमल बलिहारी रे।। भव सागर में नीर अपारा, डूब रहा नहीं मिले किनारा, पल में...
अगर है ज्ञान को पाना तो गुरु की शरण भाई भजन लिरिक्स

अगर है ज्ञान को पाना तो गुरु की जा शरण भाई...

अगर है ज्ञान को पाना, तो गुरु की जा शरण भाई।। जटा सिर पर रखाने से, भस्म तन में रमाने से, सदा फल फूल खाने से, कभी नहीं मुक्ति हो...
नजर भर देख ले मुझको शरण में तेरी आया हूँ भजन लिरिक्स

नजर भर देख ले मुझको शरण में तेरी आया हूँ भजन...

नजर भर देख ले मुझको, शरण में तेरी आया हूँ।। कोई माता पिता बंधू, सहायक है नहीं मेरा, सहायक है नहीं मेरा, काम और क्रोध दुश्मन से, बहुत दिन...
कृष्ण घर नन्द के जन्मे दुलारा हो तो ऐसा हो भजन लिरिक्स

कृष्ण घर नन्द के जन्मे दुलारा हो तो ऐसा हो भजन...

कृष्ण घर नन्द के जन्मे, दुलारा हो तो ऐसा हो, लोग दर्शन चले आये, सितारा हो तो ऐसा हो।। बकासुर को मसल डाला, पूतना जान से मारी, पूतना जान...
राम दशरथ के घर जन्मे घराना हो तो ऐसा हो भजन लिरिक्स

राम दशरथ के घर जन्मे घराना हो तो ऐसा हो भजन...

राम दशरथ के घर जन्मे, घराना हो तो ऐसा हो, घराना हो तो ऐसा हो, लोग दर्शन को चल आये, सुहाना हो तो ऐसा हो, राम दशरथ के घर...
आओगे जब तुम ओ साँवरे दिल के द्वार खुलेंगे भजन लिरिक्स

आओगे जब तुम ओ साँवरे दिल के द्वार खुलेंगे भजन लिरिक्स

आओगे जब तुम ओ साँवरे, तर्ज - आओगे जब तुम साजना। आओगे जब तुम ओ साँवरे, दिल के द्वार खुलेंगे, आँखों में आंसू, आँखों में आंसू, इंतजार...
है जाना अमरनाथ के द्वार शिव भजन लिरिक्स

है जाना अमरनाथ के द्वार शिव भजन लिरिक्स

है जाना अमरनाथ के द्वार, तर्ज - अयोध्या करती है आव्हान अमरनाथ की जय हो, शिव शंकर की जय हो, महादेव की जय हो, जय हो। है आया सावण का...
छाई सावन की घटा कांधे पे कांवड़ उठा लख्खा जी भजन लिरिक्स

छाई सावन की घटा कांधे पे कांवड़ उठा लख्खा जी भजन...

छाई सावन की घटा, कांधे पे कांवड़ उठा, ध्यान चरणों में लगा, चल शिव के द्वारे।। तर्ज - जब चली ठंडी हवा शिव बड़े दातार है, जाने क्या से क्या...
तेरा दीदार क्यो नही मुझपे उपकार क्यो नही होता भजन लिरिक्स

तेरा दीदार क्यो नही मुझपे उपकार क्यो नही होता भजन लिरिक्स

तेरा दीदार क्यो नही होता, मुझपे उपकार क्यो नही होता, तेरी रहमत की चार बूँदो का, दास हक़दार क्यो नही होता।। मैं किसी गैर के हाथो से, समुंदर भी...
काला पण घणा रुपाला सा मंडपिया वाला श्याम भजन लिरिक्स

काला पण घणा रुपाला सा मंडपिया वाला श्याम भजन लिरिक्स

काला पण घणा रुपाला सा, मंडपिया वाला श्याम, मंडपिया वाला श्याम म्हारा, ओ मुरली वाला श्याम सा, मंडपिया वाला श्याम म्हारा, ओ भाला वाला श्याम सा, काला पण घणा रुपाला...

नए जोड़े गए भजन