होम भजन पेज 173
आसरो बालाजी म्हने थारो थे कष्ट निवारो भजन लिरिक्स

आसरो बालाजी म्हने थारो थे कष्ट निवारो भजन लिरिक्स

आसरो बालाजी म्हने थारो, थे कष्ट निवारो, पधारो म्हारे आंगणिये पधारो, थारी मैं बुलावा जय जय कार।। सालासर में सज्यो है दरबार, अंजनी का लाला दुखियारा दातार, थाने जो...
अंजनी का लाला ओ बजरंग बाला

अंजनी का लाला ओ बजरंग बाला भजन लिरिक्स

अंजनी का लाला ओ बजरंग बाला, तर्ज - यारा ओ यारा मिलना हमारा अंजनी का लाला ओ बजरंग बाला, कोई ना तुमसा बलि, सुमिरन करे जो, ध्यान धरे...
थारी जय जो पवन कुमार लखबीर सिंह लक्खा भजन लिरिक्स

थारी जय जो पवन कुमार लखबीर सिंह लक्खा भजन लिरिक्स

लाल लंगोटो हाथ मे सोटो, थारी जय जो पवन कुमार, मैं वारि जाऊँ बालाजी, बलिहारी जाऊँ बालाजी।। सालासर थारो देवरो है बाबा, मेहंदीपुर भी थारो देवरो बाबा, थारे...
हनुमान भरोसा तेरा है लखबीर सिंह लख्खा भजन लिरिक्स

हनुमान भरोसा तेरा है लखबीर सिंह लख्खा भजन लिरिक्स

हनुमान भरोसा तेरा है, श्लोक - पवन पुत्र बलकारी, ओ बाल यति ब्रम्हचारी, दोड्या दोड्या आया थारे, सुनलो अरजी म्हारी।। तेरा ही बस तेरा है, मुझको भरोसा तेरा है, बजरंग बाला...

राम जी से राम राम कहियो कहियो जी हनुमान जी

राम जी से राम राम कहियो, कहियो जी हनुमान जी।। ⧫ ⧫  दोहा  ⧫ ⧫ श्री गुरु चरन सरोज रज निज मनु मुकुरु सुधारि । बरनउँ रघुबर बिमल...
दरबार मे शिर्डी वाले के दुख दर्द मिटाए जाते है

दरबार मे शिर्डी वाले के दुख दर्द मिटाए जाते है भजन...

दरबार मे शिर्डी वाले के, दुख दर्द मिटाए जाते है, दुनिया से सताए लोग यहाँ, सिने से लगाए जाते है, दरबार मे शिर्डी वाले...
मैं दीवाना साई तेरा लखबीर सिंह लख्खा भजन लिरिक्स

मैं दीवाना साई तेरा लखबीर सिंह लख्खा भजन लिरिक्स

मैं दीवाना साई तेरा, रखना सदा तू ध्यान मेरा, मैं दीवाना साई तेरा। आस बंधी है आस ना टूटे, मुझसे तेरा द्वार ना छूटे, रखना...
गजानंद नाव मेरी पड़ी मजधार है गणेश जी भजन लिरिक्स

गजानंद नाव मेरी पड़ी मजधार है गणेश जी भजन लिरिक्स

गजानंद नाव मेरी पड़ी मजधार है, तर्ज - थोड़ा सा प्यार हुआ है थोड़ा है बाकि गजानंद नाव मेरी पड़ी मजधार है, तू ही खिवैया जग का...
हे स्वर की देवी माँ वाणी में मधुरता दो जया किशोरी जी भजन

हे स्वर की देवी माँ वाणी में मधुरता दो जया किशोरी...

हे स्वर की देवी माँ वाणी में मधुरता दो, में गीत सुनाती हूँ संगीत की शिक्षा दो।। तर्ज - होंठो से छू लो तुम   सरगम...
राम मेरे घर आना चित्रकूट के घाट घाट पर भीलनी जोवे बाट

राम मेरे घर आना चित्रकूट के घाट घाट पर भीलनी जोवे...

राम मेरे घर आना, श्लोक - चित्रकूट के घाट पर, भई संतन की भीड़, तुलसीदास चन्दन घिसे, तिलक करे रघुवीर।। चित्रकूट के घाट घाट पर, भीलनी जोवे बाट, राम मेरे घर...

नए जोड़े गए भजन