होम Blog पेज 190
​अगर प्यार तेरे से पाया ना होता भजन लिरिक्स

​अगर प्यार तेरे से पाया ना होता भजन लिरिक्स

​अगर प्यार तेरे से पाया ना होता, तुझे श्याम अपना बनाया ना होता।। ना होती तमन्ना हि, तेरे मिलन की, अगर मेरे मन को तु, भाया ना...
अब सौंप दिया इस जीवन का

अब सौंप दिया इस जीवन का भजन लिरिक्स

अब सौंप दिया इस जीवन का, सब भार तुम्हारे हाथों में, है जीत तुम्हारे हाथों में, और हार तुम्हारे हाथों में॥ मेरा निश्चय है बस एक यही, एक बार...
श्री राम जानकी बैठे हैं मेरे सीने मे देख लो मेरे दिल के नगीने में

श्री राम जानकी बैठे हैं मेरे सीने मे देख लो मेरे...

श्री राम जानकी बैठे हैं मेरे सीने मे, देख लो मेरे दिल के नगीने में ।। तर्ज - अल्लाह ये अदा कैसी हैं - श्लोक - ना...

​आओ क़रीब आओ मेरा दिल उदास है मुझसे नज़र मिलाओ मेरा...

​आओ क़रीब आओ मेरा दिल उदास है, श्लोक - गम सहकर के जीना जिंदगी में, यहाँ बुजदिलो की कदर नहीं होती। हँसना मुसीबत...
श्याम रंग में रंग गई राधा भूली सुध-बुध सारी रे भजन लिरिक्स

श्याम रंग में रंग गई राधा भूली सुध-बुध सारी रे भजन...

श्याम रंग में रंग गई राधा, भूली सुध-बुध सारी रे, राधा के मन में, बस गए श्याम बिहारी।। श्याम नाम की चुनर ओढ़ी, श्याम नाम की चुडीयाँ, अंग...
बंसी वाले के चरणों में सर हो मेरा भजन लिरिक्स

बंसी वाले के चरणों में सर हो मेरा भजन लिरिक्स

बंसी वाले के चरणों में, सर हो मेरा, फिर ना पूछो, कि उस वक़्त क्या बात है। उनके द्वारे पे डाला है जब से डेरा,...
बंसी बजा के मेरी निंदिया चुराई भजन लिरिक्स

बंसी बजा के मेरी निंदिया चुराई भजन लिरिक्स

बंसी बजा के मेरी निंदिया चुराई, लाडला कन्हैया मेरा कृष्ण कन्हाई, कुञ्ज गली में ढूंढें तुम्हे राधा प्यारी, कहाँ गिरधारी मेरे कहाँ गिरधारी।।  आँख मिचौली काहे खेले तु कान्हा, पलके...
बाबा का दरबार सुहाना लगता है भक्तों का तो दिल दीवाना

बाबा का दरबार सुहाना लगता है भक्तों का तो दिल दीवाना

बाबा का दरबार सुहाना लगता है, तर्ज - दूल्हे का सेहरा सुहाना लगता है बाबा का दरबार सुहाना लगता है, भक्तों का तो दिल दीवाना लगता है।। हमने...
​अवध में छाई खुशी की बेला लगा है अवध पुरी में मेला भजन लिरिक्स

​अवध में छाई खुशी की बेला लगा है अवध पुरी में...

​अवध में छाई खुशी की बेला , लगा है अवध पुरी में मेला।।  राम लक्ष्मण भरत शत्रुघ्न, संग में नाचे हनुमत चेला, लगा है अवध पुरी में मेला।। ​अवध...
अरे द्वारपालों कन्हैया से कह दो दर पे सुदामा गरीब आ गया है

अरे द्वारपालों कन्हैया से कह दो भजन लिरिक्स

अरे द्वारपालों कन्हैया से कह दो, तर्ज - ये माना मेरी जा। ​श्लोक - देखो देखो ये गरीबी, ये गरीबी का हाल, कृष्ण के दर पे, विस्वास लेके आया हूँ,  मेरे...

नए जोड़े गए भजन