प्रेम के बंधन में मोहन बंध गए भजन लिरिक्स

0
1068
बार देखा गया
प्रेम के बंधन में मोहन बंध गए भजन लिरिक्स

प्रेम के बंधन में मोहन बंध गए,
प्रेमियों ने जो बनाया बन गए,
प्रेम के बंधन में मोहन बंध गए।।

तर्ज – दिल के अरमा आंसुओ में।



वादा तुलसीदास का पूरा किया,

वादा तुलसीदास का पूरा किया,
छोड़ बंसी धनुषधारी बन गए
प्रेम के बंधन में मोहन बँध गए,
प्रेमियों ने जो बनाया बन गए,
प्रेम के बंधन में मोहन बंध गए।।



जान मीरा की ना राणा ले सका,

जान मीरा की ना राणा ले सका,
नाग से आकर नारायण बन गए,
प्रेम के बंधन में मोहन बँध गए,
प्रेमियों ने जो बनाया बन गए,
प्रेम के बंधन में मोहन बंध गए।।



प्रेम से भरपूर जिसने दिल दिया,

प्रेम से भरपूर जिसने दिल दिया,
उसकी नस नस में हरी जी बस गए,
प्रेम के बंधन में मोहन बँध गए,
प्रेमियों ने जो बनाया बन गए,
प्रेम के बंधन में मोहन बंध गए।।



प्रेम के बंधन में मोहन बंध गए,

प्रेमियों ने जो बनाया बन गए,
प्रेम के बंधन में मोहन बंध गए।।

Singer : Chitra Vichitra Ji


आपको ये भजन कैसा लगा? जरूर बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम