साँई ये नाव फँसी धारा कोई नही चारा भजन लिरिक्स

0
341
बार देखा गया
साँई ये नाव फँसी धारा कोई नही चारा भजन लिरिक्स

साँई ये नाव फँसी धारा,
कोई नही चारा,
आ के बचालो आ के बचालो,
बाबा बड़ा दूर है किनारा,
कोई न सहारा,
आ के बचालो आ के बचालो।।

तर्ज – गोरी तेरा गाँव बड़ा प्यारा।



टूटी फूटी नाव है मेरी,

तेज बहत है धारा,
कैसे ये उस पार लगे जब,
हो न खैवन हारा-२,
एक तू ही है सहारा,
बाबा अब हमारा,
आ के बचालो,
आ के बचालो,
साँई ये नाव फसी धारा,
कोई नही चारा,
आ के बचालो आ के बचालो।।



आँधी तूफाँ बहुत चलत है,

नैया इत उत डोले,
तू ही सहारा है दीनो का,
ऐसा जग ये बोले,
मेरी भी नैया पार करदे,
विपदा ये हर ले,
साँई बचालो आ के बचालो,
साँई ये नाव फसी धारा,
कोई नही चारा,
आ के बचालो आ के बचालो।।



पीछे जाऊँ तो घोर अँधेरा,

आगे भँवर बड़ी है,
सोच सोच कर मन घबराए,
सामने मौत खड़ी है,
साँई ये दास शरण तेरी,
लाज रखो मेरी,
आ के बचालो आ के बचालो,
साँई ये नाव फसी धारा,
कोई नही चारा,
आ के बचालो आ के बचालो।।



साँई ये नाव फँसी धारा,

कोई नही चारा,
आ के बचालो आ के बचालो,
बाबा बड़ा दूर है किनारा,
कोई न सहारा,
आ के बचालो आ के बचालो।।

– भजन लेखक एवं प्रेषक –
श्री शिवनारायण वर्मा,
मोबा.न.8818932923

वीडियो उपलब्ध नहीं।


 

आपको ये भजन कैसा लगा? जरूर बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम