सपने में रात में आया मुरली वाला री भजन लिरिक्स

0
779
बार देखा गया
सपने में रात में आया मुरली वाला री भजन लिरिक्स

सपने में रात में आया,
मुरली वाला री,
मेरे दिल में बस ग्यो,
श्याम जपू मैं माला री।।



वो बोला सुन मेरी राधा,

मैं तेरे बिना हूँ आधा,
मेरी बंसी तुझे पुकारे,
आ दौड़ी यमुना किनारे,
मुझे ग्वाल बाल में प्यारा,
ग्वाल बाल में प्यारा,
कृष्ण वो काला री,
मेरे दिल में बस ग्यो,
श्याम जपू मैं माला री।।



वो झूले कदम की डारी,

मैं संग में झूलन वारी,
रंग रसिया श्याम मुरारी,
करे मीठी बतिया प्यारी,
जादू सा मो पे करता,
जादू सा मो पे करता,
वो नंद लाला री,
मेरे दिल में बस ग्यो,
श्याम जपू मैं माला री।।



मेरा हाथ पकड़ के डोले,

नैनन की भाषा बोले,
मैं हो गयी श्याम दीवानी,
मोहे दे गयो खास निशानी,
मोहे दे गयो खास निशानी,
मेरा खो गयो खेलन में,
खो गयो खेलन में,
कान का बाला री,
मेरे दिल में बस ग्यो,
श्याम जपू मैं माला री।।



वो नटखट नन्द किशोरा,

छलिया गोकुल का छोरा,
सपने में आन सतावे,
फिर चैन मुझे न आवे,
मेरे मन का कमल खिलावे,
मन का कमल खिलावे,
श्याम गोपाला री,
मेरे दिल में बस ग्यो,
श्याम जपू मैं माला री।।



सपने में रात में आया,

मुरली वाला री,
मेरे दिल में बस ग्यो,
श्याम जपू मैं माला री।।


आपको ये भजन कैसा लगा? जरूर बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम