शीश जटा में गंग विराजे गले में विषधर काले भजन लिरिक्स

0
419
बार देखा गया
शीश जटा में गंग विराजे

शीश जटा में गंग विराजे
श्लोक – ॐ नाम एक सार है, जासे मिटत कलेश,

ॐ नाम में छिपे हुए है, ब्रम्हा विष्णु महेश।।

शीश जटा में गंग विराजे, गले में विषधर काले,
डमरू वाले ओ डमरू वाले।।

तुमने लाखो की बिगड़ी बनाई,
अपने अंग भभूत रमाई,
जो भी तेरा ध्यान लगाए,
उसको सब दे डाले,
डमरू वाले ओ डमरू वाले।।

नित अंग पे भस्मी लगाए,
जाने किसका तू ध्यान लगाए,
रहता है अलमस्त ध्यान में,
पीकर भंग के प्याले,
डमरू वाले ओ डमरू वाले।।

सब देवो ने अमृत पाया,
तुम्हे जहर हलाहल भाया,
महल अटारी सबको बांटे,
तुम हो मरघट वाले,
डमरू वाले ओ डमरू वाले।।

भोले सुनलो अरज हमारी,
हम आये शरण तुम्हारी,
सब देवो में देव बड़े हो,
दुनिया के रखवाले,
डमरू वाले ओ डमरू वाले।।

कोई जवाब दें

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम