शिवरात्रि का पावन त्यौहार जब आता है भजन लिरिक्स

0
869
बार देखा गया
शिवरात्रि का पावन त्यौहार जब आता है भजन लिरिक्स

शिवरात्रि का पावन,
त्यौहार जब आता है,
ये सारा जग शिव का,
मंदिर बन जाता है,
हर कोई शिव शिव गाता है,
ध्यान भोले का लगाता है।।



शिव भक्त हर एक मंदिर,

फूलों से सजाते है,
गा गा के भजन शिव के,
ये रात बिताते है,
उस जगत पिता शिव से,
सबका ही नाता है,
ये सारा जग शिव का,
मंदिर बन जाता है,
हर कोई शिव शिव गाता है,
ध्यान भोले का लगाता है।।



शिव पिंडी की पूजा,

सब प्रेम से करते है,
श्री चरणों पे शिव के,
सब माथा धरते है,
कोई लाए गंगाजल,
कोई पुष्प चढ़ाता है,
ये सारा जग शिव का,
मंदिर बन जाता है,
हर कोई शिव शिव गाता है,
ध्यान भोले का लगाता है।।



शिवरात की महिमा तो,

वेदों ने भी गाई है,
इस दिन बारात शिव की,
गौरा घर आई है,
ये दास ‘पवन’ सच्ची,
बात बताता है,
ये सारा जग शिव का,
मंदिर बन जाता है,
हर कोई शिव शिव गाता है,
ध्यान भोले का लगाता है।।



शिवरात्रि का पावन,

त्यौहार जब आता है,
ये सारा जग शिव का,
मंदिर बन जाता है,
हर कोई शिव शिव गाता है,
ध्यान भोले का लगाता है।।


आपको ये भजन कैसा लगा? जरूर बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम