तेनु रोज बुलावांगे चित्र विचित्र भजन लिरिक्स

0
895
बार देखा गया
तेनु रोज बुलावांगे चित्र विचित्र भजन लिरिक्स

तेनु रोज बुलावांगे,
तेनु रोज बुलावांगे,
सुधबुध भूल अपनी,
राधे राधे गावांगे,
सुधबुध भूल अपनी,
राधे राधे गावांगे,
तैनू रोज बुलावांगे,
सुधबुध भूल अपनी,
राधे राधे गावांगे।।

तर्ज – ये मर्जी अर्जी है।



साडा होर ठिकाणा नई,

साडा होर ठिकाणा नई,
वृन्दावन छड तेरा,
कित्ते और भी जाना नई,
वृन्दावन छड तेरा,
कित्ते और भी जाना नई।।



साडी प्यास बुझा दे तू,

साडी प्यास बुझा दे तू,
अपना ये मुख प्यारा,
एक बार दिखा दे तू,
अपना ये मुख प्यारा,
एक बार दिखा दे तू।।



तू प्यार दा सागर है,

तू प्यार दा सागर है,
एक बून्द ही दे श्यामा,
साडी भर जानी गागर है,
तैनू रोज बुलावांगे,
सुधबुध भूल अपनी,
राधे राधे गावांगे।।



एक करम कमा दे तू,

एक करम कमा दे तू,
उतरे ना नशा जिस दा,
एक कत्तरा पीला दे तू,
उतरेना नशा जिस दा,
एक कत्तरा पीला दे तू,
तैनू रोज बुलावांगे,
सुधबुध भूल अपनी,
राधे राधे गावांगे।।



साडा सा ही रुक जावे,

साडा सा ही रुक जावे,
जदो तेरो नाम बिसरे,
ओ तो जान ही मूक जावे,
जदो तेरो नाम बिसरे,
ओ तो जान ही मूक जावे।।



असि फक्कड़ दीवाने हाँ,

असि फक्कड़ दीवाने हाँ,
सागर देवांगु असि खुद तो बेगाने हाँ,
सागर देवांगु असि खुद तो बेगाने हाँ,
तैनू रोज बुलावांगे,
सुधबुध भूल अपनी,
राधे राधे गावांगे।।



तेनु रोज बुलावांगे,

तेनु रोज बुलावांगे,
सुधबुध भूल अपनी,
राधे राधे गावांगे,
सुधबुध भूल अपनी,
राधे राधे गावांगे,
तैनू रोज बुलावांगे,
सुधबुध भूल अपनी,
राधे राधे गावांगे।।

Singer : Chitra Vichitra Ji


आपको ये भजन कैसा लगा? जरूर बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम