तेरे दर पे आने को जी चाहता है हिंदी भजन लिरिक्स

0
2387
बार देखा गया

तेरे दर पे आने को जी चाहता है,
सबकुछ सुनाने को जी चाहता है।।

तर्ज – निगाहे मिलाने को जी चाहता है

सुनो सबके दुःख गम मिटाती है मैया,
सुनो सबके दुःख गम मिटाती है मैया,
गमे दिल सुनाने को जी चाहता है,
तेरे दर पे आने को जी चाहता है।।

तेरे दर से खाली ना जाये माँ सवाली,
तेरे दर से खाली ना जाये माँ सवाली,
झोली फैलाने को जी चाहता है,
तेरे दरपे आने को जी चाहता है।।

तेरे नाम का सिमरण करती है दुनिया,
तेरे नाम का सिमरण करती है दुनिया,
तेरा दरश पाने को जी चाहता है,
तेरे दरपे आने को जी चाहता है।।

सब भक्त तेरे दर के भिखारी,
सब भक्त तेरे दर के भिखारी,
तेरे भजन गाने को जी चाहता है,
तेरे दरपे आने को जी चाहता है।।

आपको ये भजन कैसा लगा? जरूर बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम