तेरे जैसो रे साँवरा कोई नहीं कोई नहीं भजन लिरिक्स

0
1657
बार देखा गया
तेरे जैसो रे साँवरा कोई नहीं कोई नहीं भजन लिरिक्स

तेरे जैसो रे साँवरा,
कोई नहीं कोई नहीं,
कोई नहीं, कोई नहीं,
कोई नहीं, कोई नहीं,
तेरे जिसो रे साँवरा,
कोई नहीं कोई नहीं।।

तर्ज – सारे शहर में आप सा कोई नहीं।



दे आवाज जब भी बुलाऊँ,

आवे आवे रे दोड़्यो तू आवे,
मेरो संगी साथी बनके,
काम बिगड्या भी पल में बणावे,
जी में आवे तेरी खूब सेवा करूँ,
श्याम चरणा में तेरे मैं बैठ्यो रहूं,
सेवा करूँ , सेवा करूँ,
शंका शिकायत सांवरा,
कोई नहीं, कोई नहीं,
तेरे जिसो रे साँवरा,
कोई नहीं कोई नहीं।।



तेरे साथ साथ रहवु,

ग्वाल गोकुल को मन्ने बणा ले,
तू बजावे जईया बाजू,
श्याम बंसी ही मन्ने बणाले,
अब तो तेरे सिवा मेरो कोई नहीं,
अब तो तेरे सिवा मेरो कोई नहीं,
सारे संसार में बाबा कोई नहीं,
‘लहरी’ नहीं, कोई नहीं,
बंसी बजईया रास रचईया,
कोई नहीं, कोई नहीं,
तेरे जिसो रे साँवरा,
कोई नहीं कोई नहीं।।



तेरे जैसो रे साँवरा,

कोई नहीं कोई नहीं,
कोई नहीं, कोई नहीं,
कोई नहीं, कोई नहीं,
तेरे जिसो रे साँवरा,
कोई नहीं कोई नहीं।।

Singer : Uma Lahari


आपको ये भजन कैसा लगा? जरूर बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम