विनती सुनो मेरी अंजनी के लाला भजन लिरिक्स

5
1215
बार देखा गया
विनती सुनो मेरी अंजनी के लाला

विनती सुनो मेरी अंजनी के लाला,
करते तुम्हारा गुणगान देवा,
दाता हमारे तुम ही सहारे,
भक्तो पे किरपा अपार देवा।।

तर्ज – सांची कहे तोरे आवन से हमरे


पूजा तुम्हारी जो करता है दिल से,
उसको बचाते हो हर मुश्किल से,
दर पे तुम्हारे जो आये सवाली,
रखते हो भक्तो का ध्यान देवा,
दाता हमारे तुम ही सहारे,
भक्तो पे किरपा अपार देवा।।


सूरज को बजरंगी मुँह में धरा था,
हाथो पे पर्वत को तुमने धरा था,
हर काम मुश्किल पल में बनाते,
देवो में हो बलवान देवा,
दाता हमारे तुम ही सहारे,
भक्तो पे किरपा अपार देवा।।


माता सिया का पता था लगाया,
रावण को निचा था तुमने दिखाया,
लंका जलाई पल भर में स्वामी,
ऐसा मचाया तूफान देवा,
दाता हमारे तुम ही सहारे,
भक्तो पे किरपा अपार देवा।।


लक्ष्मण की थी तुमने जान बचाई,
तुलसी को तुमने ही राह दिखाई,
प्रेमी तुम्हारे चरणों में रखना,
पागल तुम्हारा सरकार देवा,
दाता हमारे तुम ही सहारे,
भक्तो पे किरपा अपार देवा।।


विनती सुनो मेरी अंजनी के लाला,
करते तुम्हारा गुणगान देवा,
दाता हमारे तुम ही सहारे,
भक्तो पे किरपा अपार देवा।।


5 टिप्पणी

  1. kshama kare likin kripya chek karne ka kast kare ki kya sahi hai

    bhkato ke dil ka arman deva – ya fir
    bhakto pe kirpa apar deva
    ravan ko jakar ke tumne daraya – ya fir
    ravan ko nicha tha tumne dikhaya
    mane tumhara farman deva – ya fir
    pagal tumhara sarkar deva

    • कृपया इन भजन को भी लिखे कही लाइन को दो बार तीन बार गाया जाये तो लाइन के आगे २ – ३ भी लिखे साथ ही यदि आ आ, हो हो ,आदि हो तो वह लिखे तो बहुत अच्छा रहेगा।
      1 . मेरा कसके पकड़ लो हाथ छुड़ाऊ तो छुड़ाया नहीं जाये – माता भजन
      2 तेरा दरबार हमने सजाया है माँ तुझको बुलाया है माँ – माता भजन
      3 रोम रोम में बसा रखा है राम ही राम लिखा रखा है – हनुमान भजन
      4. वो बनको गए है मई बात निहारु नहीं आये रघुराई – राम भजन
      5 रघुवर आ जाओ कबसे कड़ी हु रह में
      6 सारी दुनिया ने धोखा दिया मना मैंने बजरंग लिया

आपको ये भजन कैसा लगा? जरूर बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम