ऐसी मस्ती कहाँ मिलेगी श्याम नाम रस पी ले भजन लिरिक्स

0
2422
बार देखा गया
ऐसी मस्ती कहाँ मिलेगी श्याम नाम रस पी ले भजन लिरिक्स

ऐसी मस्ती कहाँ मिलेगी,
श्याम नाम रस पी ले,
तू मस्ती में जी ले,
तू मस्ती में जी ले,
सांचा है दरबार श्याम का,
श्याम प्रभु है रसीले,
तू मस्ती में जी ले,
तू मस्ती में जी ले।।



लख चौरासी भटक भटक कर,

मानुष काया पार्इ,
ऐसा फसा जगत में आकर,
सारी सुध बिसरार्इ,
अब भी समय है,
सम्भल जा बावरे,
बंधन करले ढीले,
तू मस्ती में जी ले,
तू मस्ती में जी ले।।



अमृत मय है नाम श्याम का,

सारे दोष मिटा दे,
अंधकार को दूर भगा,
हिवड़े में ज्योत जगादे,
अन्तर्मुख हो बैठ चैन से,
नैना करले गीले,
तू मस्ती में जी ले,
तू मस्ती में जी ले।।



श्याम नाम की महिमा को तो,

वेद पुराण बखाने,
गणिका गिद्ध अजामिल तर गए,
तर गए जीव सयाने,
धर्मी अधर्मी ऋषि मुनि योगी,
नाम से हुए रसीले,
तू मस्ती में जी ले,
तू मस्ती में जी ले।।



श्याम कुटुंब में नाम लिखा,

स्थिरता तुम्हें मिलेगी,
पथ के कांटे फूल बनें,
जीवन की बगिया खिलेगी,
‘नन्दू’ कर विश्वास प्रभु पर,
अब भी किस्मत सीले,
तू मस्ती में जी ले,
तू मस्ती में जी ले।।



ऐसी मस्ती कहाँ मिलेगी,

श्याम नाम रस पी ले,
तू मस्ती में जी ले,
तू मस्ती में जी ले,
सांचा है दरबार श्याम का,
श्याम प्रभु है रसीले,
तू मस्ती में जी ले,
तू मस्ती में जी ले।।


आपको ये भजन कैसा लगा? जरूर बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम