भक्तो ने हिल मिलकर उत्सव मनाया है भजन लिरिक्स

0
580
बार देखा गया
भक्तो ने हिल मिलकर उत्सव मनाया है भजन लिरिक्स

भक्तो ने हिल मिलकर उत्सव मनाया है,
कमी आपकी श्याम आ जाइये,
बस कमी आपकी श्याम आ जाइये।।

तर्ज – ये रेशमी झुल्फे।



लटके फूलो की लडिया दरबार में,

महके अंतर की खुशबू दरबार में,
जगमग जगमग ज्योत जली,
लगती है कितनी हली भली,
कमी आपकी श्याम आ जाये,
बस कमी आपकी श्याम आ जाये।

भक्तों ने हिल मिलकर उत्सव मनाया है,
कमी आपकी श्याम आ जाइये,
बस कमी आपकी श्याम आ जाइये।।



पलके सबकी बिछी है तेरी राह में,

तरसे प्रेमी तुम्हारे तेरी चाह में,
धिनक धिनक ढोलक बोले,
अमृत रस मुरली घोले,
कमी आपकी श्याम आ जाये,
बस कमी आपकी श्याम आ जाये।

भक्तों ने हिल मिलकर उत्सव मनाया है,
कमी आपकी श्याम आ जाइये,
बस कमी आपकी श्याम आ जाइये।।



कोई मेवा मिश्री लाया है,

कोई कंदुल भेट में लाया है,
अपनी अपनी श्रद्धा से,
आये सब तुमसे मिलने,
कमी आपकी श्याम आ जाये,
बस कमी आपकी श्याम आ जाये।

भक्तों ने हिल मिलकर उत्सव मनाया है,
कमी आपकी श्याम आ जाइये,
बस कमी आपकी श्याम आ जाइये।।



रंग भाव भजन का निखरा यहाँ,

अटके श्याम बिहारी ढूंढे कहाँ,
वादा याद दिलाते है,
‘नंदू’ क्यों तरसाते है,
कमी आपकी श्याम आ जाये,
बस कमी आपकी श्याम आ जाये।

भक्तों ने हिल मिलकर उत्सव मनाया है,
कमी आपकी श्याम आ जाइये,
बस कमी आपकी श्याम आ जाइये।।



भक्तो ने हिल मिलकर उत्सव मनाया है,

कमी आपकी श्याम आ जाइये,
बस कमी आपकी श्याम आ जाइये।।

Singer : Mukesh Bagda


आपको ये भजन कैसा लगा? जरूर बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम