गंग बरसे भीजे औघड़दानी गंग बरसे भजन लिरिक्स

1
717
बार देखा गया
गंग बरसे भीजे औघड़दानी गंग बरसे भजन लिरिक्स

गंग बरसे भीजे औघड़दानी,
गंग बरसे,
हे गंग बरसे भीजे औघ-ड़दानी,
गंग बरसे।।

तर्ज – रंग बरसे भीजे चुनर वाली।


भांग धतूरा का भोजन बनाया,
भांग धतूरा का भोजन बनाया,
खाये भोले दातार भगत तरसे,
गंग बरसे,
गंग बरसे भीजे औघड़-दानी,
गंग बरसे।।


गांजा और सुल्फा का चिलम भराया,
गांजा और सुल्फा का चिलम भराया,
खींचे भोले सरकार चिलम भरके,
गंग बरसे,
ओ गंग बरसे भीजे औघड़-दानी,
गंग बरसे।।


कैलाश पर्वत पे आसन लगाया,
कैलाश पर्वत पे आसन लगाया,
‘शर्मा’ किये श्रृंगार भगत हरषे,
गंग बरसे,
ओ गंग बरसे भीजे औघड़-दानी,
गंग बरसे।।


गंग बरसे भीजे औघड़-दानी,
गंग बरसे,
हो गंग बरसे भीजे औघड़दानी,
गंग बरसे।।


1 टिप्पणी

आपको ये भजन कैसा लगा? जरूर बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम