घाटे वाले एक वर दे दे हनुमान जी भजन लिरिक्स

0
274
बार देखा गया
घाटे वाले एक वर दे दे हनुमान जी भजन लिरिक्स

घाटे वाले एक वर दे दे,
तो चैन मुझे मिल जाये,
भक्तो की बात चले जब भी,
एक नाम मेरा भी आये,
घाटे वाले एक वर दे दे।।

तर्ज – तेरे चेहरे में वो जादू है।



ना में माँगू मोटर कारे,

ना में चाहूँ रे चौबारे,
मेरी माँग यही है प्यारे,
मेरे दिल तू भक्ति जगा दे,
सारे देवो में तू निराला,
सबसे ज्यादा तू बलवाला,
फिर भी भक्तो में तू आला,
मुझको ऐसा ही तू बना दे,
है राम तेरे दिल में जैसे,
तू मेरे दिल में समाये।

घाटे वाले इक वर दे दे,
तो चैन मुझे मिल जाये,
भक्तो की बात चले जब भी,
एक नाम मेरा भी आये,
घाटे वाले एक वर दे दे।।



तेरे दर पे शीश झुकाने,

आते है लाखो दीवाने,
तुझको अपना सबकुछ माने,
तेरी करते है रे पूजा,
जो भी आते है तेरे द्वारे,
उनकी नैया को तू तारे,
कर देता है वारे न्यारे,
वो क्यों द्वार है देखे दूजा,
मिल जाता है सबकुछ उनको,
जो तुझ से आस लगाये।

घाटे वाले इक वर दे दे,
तो चैन मुझे मिल जाये,
भक्तो की बात चले जब भी,
एक नाम मेरा भी आये,
घाटे वाले एक वर दे दे।।



सुनले सुनले तू मेरी अर्जी,

में हूँ ‘बागड़ा’ तेरा गर्जी,
आगे फिर है तेरी मर्जी,
तू मेरी बात माने या ना माने,
मेरी आशा तुझे बताऊ,
में बस तेरी महिमा गाऊ,
गाते गाते ही मर जाऊं,
गाते गाते मैं ऐसे तराने,
जो मेरे बाद कहे दुनिया,
ना बेखबर हो पाए।

घाटे वाले इक वर दे दे,
तो चैन मुझे मिल जाये,
भक्तो की बात चले जब भी,
एक नाम मेरा भी आये,
घाटे वाले एक वर दे दे।।



घाटे वाले एक वर दे दे,

तो चैन मुझे मिल जाये,
भक्तो की बात चले जब भी,
एक नाम मेरा भी आये,
घाटे वाले एक वर दे दे।।

Sinnger : Mukesh Bagda


आपको ये भजन कैसा लगा? जरूर बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम