जीते भी लकड़ी मरते भी लकड़ी भजन लिरिक्स

8
13087
बार देखा गया
जीते भी लकड़ी मरते भी लकड़ी

जीते भी लकड़ी मरते भी लकड़ी,
देख तमाशा लकड़ी का, 
क्या जीवन क्या मरण कबीरा,
खेल रचाया लकड़ी का।


जिसमे तेरा जनम हुआ, 
वो पलंग बना था लकड़ी का, 
माता तुम्हारी लोरी गाए,
वो पलना था लकड़ी का,
जीते भी लकड़ी मरते भी लकड़ी, 
देख तमाशा लकड़ी का।


पड़ने चला जब पाठशाला में, 
लेखन पाठी लकड़ी का, 
गुरु ने जब जब डर दिखलाया, 
वो डंडा था लकड़ी का, 
जीते भी लकड़ी मरते भी लकड़ी, 
देख तमाशा लकड़ी का।


जिसमे तेरा ब्याह रचाया, 
वो मंडप था लकड़ी का, 
जिसपे तेरी शैय्या सजाई, 
वो पलंग था लकड़ी का, 
जीते भी लकड़ी मरते भी लकड़ी, 
देख तमाशा लकड़ी का।


डोली पालकी और जनाजा, 
सबकुछ है ये लकड़ी का, 
जनम-मरण के इस मेले में, 
है सहारा लकड़ी का, 
जीते भी लकड़ी मरते भी लकड़ी, 
देख तमाशा लकड़ी का।


क्या राजा क्या रंक मनुष संग,
अंत सहारा लकड़ी का, 
कहत कबीरा सुन भई साधु, 
ले ले तम्बूरा लकड़ी का, 
जीते भी लकड़ी मरते भी लकड़ी, 
देख तमाशा लकड़ी का।

 


Jite bhi lakdi marte bhi lakdi 
dekh tamaasha lakadee ka
kya jeevan kya maran kabeera
khel rachaaya lakadee ka


jisame tera janam hua
vo palang bana tha lakadee ka
maata tumhaaree loree gae
vo palana tha lakadee ka
jeete bhee lakadee marate bhee lakadee
dekh tamaasha lakadee ka.


padane chala jab paathashaala mein
lekhan paathee lakadee ka
guru ne jab jab dar dikhalaaya
vo danda tha lakadee ka
jeete bhee lakadee marate bhee lakadee
dekh tamaasha lakadee ka


jisame tera byaah rachaaya
vo mandap tha lakadee ka
jisape teree shaiyya sajaee
vo palang tha lakadee ka
jeete bhee lakadee marate bhee lakadee
dekh tamaasha lakadee ka


dolee paalakee aur janaaja
sabakuchh hai ye lakadee ka
janam maran ke is mele mein
hai sahaara lakadee ka
jeete bhee lakadee marate bhee lakadee
dekh tamaasha lakadee ka


kya raaja kya rank manush sang
ant sahaara lakadee ka
kahat kabeera sun bhee saadhu
le le tamboora lakadee ka
jeete bhee lakadee marate bhee lakadee
dekh tamaasha lakdi ka 

8 टिप्पणी

कोई जवाब दें

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम