जितना राधा रोई कान्हा के लिए कन्हैया उतना रोया है सुदामा के लिए

0
3772
बार देखा गया
जितना राधा रोई कान्हा के लिए कन्हैया उतना रोया है सुदामा के लिए

जितना राधा रोई,
रोई कान्हा के लिए,
कन्हैया उतना रोया,
रोया है सुदामा के लिए।।

बोला वो हो मतवाला,
यार मेरा मुरली वाला।


यार की हालत देखि,
उसकी हालत पे रोया,
यार के आगे अपनी,
शानो-शौकत पे रोया,
ऐसे तड़पा तड़पे शमा,
परवाने के लिए,
कन्हैया उतना रोया,
रोया है सुदामा के लिए।।

बोला वो हो मतवाला,
यार मेरा मुरली वाला।


पाँव के छाले देखे,
तो दुःख के मारे रोया,
पाँव धोने के खातिर,
ख़ुशी के मारे रोया,
आंसू थे भरपाई,
अब तो जीने के लिए,
कन्हैया उतना रोया,
रोया है सुदामा के लिए।।

बोला वो हो मतवाला,
यार मेरा मुरली वाला।


उसके आने से रोया,
उसके जाने से रोया,
होक गदगद चावल के,
दाने दाने पे रोया,
बनवारी वो रोया,
बस याराना के लिए,
कन्हैया उतना रोया,
रोया है सुदामा के लिए।।

बोला वो हो मतवाला,
यार मेरा मुरली वाला।


जितना राधा रोई,
रोई कान्हा के लिए,
कन्हैया उतना रोया,
रोया है सुदामा के लिए।।


आपको ये भजन कैसा लगा? जरूर बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम