कईया भुली बेमाता म्हारी लिखणा ये भजन लिरिक्स

0
156
बार देखा गया
कईया भुली बेमाता म्हारी लिखणा ये भजन लिरिक्स

कईया भुली बेमाता म्हारी लिखणा ये,
दोहा – समय बड़ा बलवान है,
नही पुरूष बलवान,
भीलन लुटी गोपिका,
वही अर्जुन वही बाण।।



कईया भुली बेमाता म्हारी लिखणा ये,

लिखणा पढ़णा, लिखना ये,
लिखणा पढ़णा, लिखना ये,
कैया भुली बेमाता म्हारी लिखणा ये।।



बड़ पीपल के पान न लिखिया,

नागर बेल के फल ना ये,
कैया भुली बेमाता म्हारी लिखणा ये।।



सोना माहि सुगंध ना दीन्ही,

कस्तुरी मे रंग ना ये,
कैया भुली बेमाता म्हारी लिखणा ये।।



ओगड़ नारी के पांच पुत्र है,

पतिव्रता के सुत ना ये,
कैया भुली बेमाता म्हारी लिखणा ये।।



तुलसी दास विधाता से अर्जी,

उलट पलट थारी रचना ये,
कैया भुली बेमाता म्हारी लिखणा ये।।



कईया भुली बेमाता म्हारी लिखणा ये,

लिखणा पढ़णा, लिखना ये,
लिखणा पढ़णा, लिखना ये,
कैया भुली बेमाता म्हारी लिखणा ये।।

Singer – Dharmendar gawadi
प्रेषक – राधाकिशन सैनी सिरस
9828440693


आपको ये भजन कैसा लगा? जरूर बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम