मेरे गुरुदेव की मुझ पर कृपा एक बार हो जाये

0
1115
बार देखा गया
मेरे गुरुदेव की मुझ पर
मेरे गुरुदेव की मुझ पर

मेरे गुरुदेव की मुझ पर कृपा एक बार हो जाये,
लगा लू रज मे चरणों की मेरा उद्धार हो जाये॥

मेरे हो तुम गूरूदेवा लगाकर मन करूँ सेवा,
जगा दो ज्ञान की ज्योति, चमन गुलज़ार हो जाए ॥॥

दया के आप हो सागर मेरी भरदो प्रभु गागर,
बहा दो प्रेम की गँगा बेड़ा पार हो जाये॥॥

फँसे है मोह माया में, बिठा लो चरण छाया में,
शरण तेरी जो आ जाए, कमल गुलज़ार हो जाए ॥॥

मेरे गुरु देव की मुझ पर कृपा एक बार हो जाये,
लगा लू रज मे चरणों की मेरा उद्धार हो जाये॥

कोई जवाब दें

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम