मेरी नैय्या का तु किनारा है

0
1526
बार देखा गया

मेरी नैय्या का तु किनारा है
तर्ज- एक मुलाकात जरूरी है सनम 

​मेरे गिरधर तेरा सहारा है,
मेरी नैय्या का तु किनारा है।। 

मेरी आखो मे जले तेरे ख्वाबो के दिये,
कितनी बेचेन हु मै श्याम से मिलने के लिये, 
मेरे प्यारे कान्हा तु जो एकबार मिले, 
चेन आ जाये मुझे जो तेरा दीदार मीले,
मसीहा मेरे दुआ दे मुझे,
करु मे क्या बता दे मुझे,
दिवाने तेरी चाह मे बड़ा हि बुरा हाल है, 
खड़ी हूँ तेरी राह मे ना होश ना ख्याल है, 
मेरी नैय्या का तु किनारा है।। 

आई अरदास लेकर,
मन मे विश्वास लेकर,
झोली भर दे तु मेरी,  
आई हु आस लेकर, 
दिवाने तेरी चाह मे बड़ा हि बुरा हाल है, 
खड़ी हूँ तेरी राह मे ना होश ना ख्याल है, 
मेरी नैय्या का तु किनारा है।। 

आपको ये भजन कैसा लगा? हमें बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम