सतगुरु आया मारे रिद्धि सिद्धि लाया भजन लिरिक्स

0
75
बार देखा गया
सतगुरु आया मारे रिद्धि सिद्धि लाया भजन लिरिक्स

सतगुरु आया मारे रिद्धि सिद्धि लाया,

दोहा – सतगुरु मेरा बाणीया,
ओर बीणज करें ब्यापार,
बीना डांडी बीन ताकड़ी,
गुरू तोल दीयो संसार।

सतगुरु आया मारे रिद्धि सिद्धि लाया,
ऐ मारा भरया भंडारा रेसी,
ओ माने शन्त मील्या उपदेशी,
सतगुरु आया मारे रिद्धि सिद्धि लाया।।



खीर खांड रा अम्रत भोजन,

ओ मारा सतगुरु कलेवा करंसी,
ओ माने शन्त मील्या उपदेशी,
सतगुरु आया मारे रिद्धि सिद्धि लाया।।



ईणर काया में संता अमरत कुओ,

ऐ मारा सतगुरु हीलोला लेशी,
ओ माने शन्त मील्या उपदेशी,
सतगुरु आया मारे रिद्धि सिद्धि लाया।।



कोयल जेसो रंग कागा को,

ओ इण कागा नै कोयल कुण केशी,
ओ माने शन्त मील्या उपदेशी,
सतगुरु आया मारे रिद्धि सिद्धि लाया।।



सोना जेसो रंग पीतल को,

ओ पीतल ने सोनो कुण केशी,
ओ मानें शन्त मील्या उपदेशी,
सतगुरु आया मारे रिद्धि सिद्धि लाया।।



कहेत कबीरा सुणो भाई संता,

ओ यातो टेक भेक की रहसी,
ओ माने शन्त मील्या उपदेशी,
सतगुरु आया मारे रिद्धि सिद्धि लाया।।

प्रेषक – रतन पुरी गोस्वामी,
सावलीया खेडा,
8290907236


आपको ये भजन कैसा लगा? जरूर बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम